आगर, शाजापुर एवं नीमच जिलों में स्थापित होगा प्रदेश का सबसे बड़ा ‘‘सोलर पार्क’’

आगर-मालवा-मुख्यमंत्री कमल नाथ द्वारा प्रदेश के आगर, शाजापुर एवं नीमच जिलों में गैर परंपरागत ऊर्जा के स्तोत्र के रूप में सौर ऊर्जा संयंत्रों के समूह ‘‘सोलर पार्क’’की स्थापना का निर्णय लिया गया है। लगभग 6000 करोड़ रूपये की लागत से स्थापित किए जाने वाला यह सोलर पार्क इन तीनों जिलों में फैला होगा तथा इससे कुल 1500 मेगावाट बिजली बनेगी। यह प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर पार्क होगा। 
नीमच जिले के प्रभारी मंत्री हुकुम सिंह कराड़ा एवं प्रदेश के नवकरणीय ऊर्जा मंत्री  हर्ष यादव के विशेष प्रयासों से यह परियोजना इन जिलों में आई है। जिसकी तकनीकी प्रक्रिया पूर्ण होने के पश्चात अब आगे की कार्रवाई की जाएगी। इस सोलर पार्क को मार्च 2022 तक पूर्ण किए जाने का लक्ष्य रखा गया है। इस सोलर पार्क से प्रदेश की विद्युत वितरण कंपनियों को बिजली प्रदान की जाएगी तथा वहां से बिजली उपभोक्ताओं को प्राप्त होगी। मंत्री श्री कराड़ा ने बताया कि इस संयंत्र की स्थापना से प्रदेश की ऊर्जा जरूरतों की पूर्ति होगी तथा क्षेत्र का विकास भी होगा।इस सोलर पार्क के आगर जिले के हिस्से में स्थापित किए जाने वाले सौर ऊर्जा संयंत्र की क्षमता 550 मेगावाट होगी। यह संयंत्र प्रदेश में दूसरा सबसे बड़ा सौर ऊर्जा संयंत्र होगा। प्रदेश का सबसे बड़ा सौर ऊर्जा संयंत्र रीवा जिले में स्थापित होने वाला है, जो देश का सबसे बड़ा संयंत्र होगा तथा जिसकी उत्पादन क्षमता 750 मेगावाट होगी। इस सोलर पार्क के नीमच जिले में स्थापित होने वाले सौर ऊर्जा संयंत्र की क्षमता 500 मेगावाट होगी। इसी प्रकार सोलर पार्क के शाजापुर जिले में आने वाले सौर ऊर्जा संयंत्र की क्षमता 420 मेगावाट होगी, जिसकी लागत 1800 करोड़ होगी। इस सोलर पार्क की स्थापना के लिए केवल बंजर जमीन का ही उपयोग किया जाएगा।