जंगल की झोपड़ी में बन रहे थे हथियार: हार्डवेयर की दुकान से ख़रीदता था समान

आगर मालवा- गांव में बनी एक झोपड़ी में हथियार बनाये जा रहे थे।भले ही सुनने में यह अजीब लगे मगर सो फीसदी सच है। तनोडिया से पिपलोन जाने वाले मार्ग पर बसे गांव थडोदा से हडाई  के बीच हथियार बनाने की मिनी फैक्ट्री पकड़ी गई। आरोपी हार्डवेयर की दुकान से सामान खरीदा था और पिस्टल, कट्टे बनाकर बेच दिया करता था। मंगलवार को पुलिस अधीक्षक ने खुलासा करते हुए बताया कि आरोपी ने भ्याना में ही रहने वाले अपने नजदीकी रिश्तेदार से यह कार्य सीखा था।


पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह ने पत्रकार वार्ता में बताया कि आरोपी दिनेश लोहार निवासी ग्राम थडोदा को ग्राम थडोदा से ग्राम हड़ाई के बीच कच्चे रास्ते के समीप बनी टापरी से हथियार बनाते हुवे पकड़ा गया है। उसके पास से 10 व 12 बोर के कट्टे, एक 6 राउण्ड ,32 रिवाल्वर, एक  अधूरा बना देशी कट्टा,कट्टे बनाने की सामग्री,4 व 12 बोर के जिंदा कारतूस जप्त किये गए है। दो ग्रामो के बीच हथियार बनाने की इस मिनी फेक्ट्री कि कानोकान खबर किसी को भी नही थी।पुलिस ने अपना खुफिया तंत्र सक्रिय किया और हथियारों का सौदागर धरा गया। आरोपी हार्डवेयर की दुकान से ही सामग्री ख़रीदता था और अपने कार्य को अंजाम देता था।उसने यह कार्य अपने भ्याना निवासी रिश्तेदार से सीखा था जो अब इस दुनिया मे नही है।पुलिस ने आरोपी का रिमांड लिया है।फिलहाल पुलिस मामले की तहकीकात कर रही है।प्रेस वार्ता के दौरान अतरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रदीप पटेल भी मौजूद थे।