जिले को बड़ी सौगात:480 गांवों में नल कनेक्शन से मिलेगा पेयजल

आगर-मालवा- मध्यप्रदेश शासन के नगरीय विकास एवं आवास विभाग मंत्री तथा जिले के प्रभारी मंत्री जयवर्द्धन सिंह की अध्यक्षता में शुक्रवार को जिला योजना समिति की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में जिले की ग्रामीण समूह जलप्रदाय योजना का प्रस्तुतीकरण किया गया। जिसमें बताया गया कि जिले के चारो विकास खंण्डों के कुल 480 ग्रामों को गुणवत्तापूर्ण पर्याप्त मात्रा में घरेलू नल कनेक्शन के माध्यम से पेयजल उपलब्ध कराने हेतु 603.96 करोड़ की लागत का प्रस्ताव शासन स्तर से स्वीकृत हुआ है। 
योजनान्तर्गत विकास खंड आगर के 137 गांव, बड़ौद के 139, सुसनेर 111 तथा नलखेड़ा 93 गांवों की कुल 4 लाख 54 हजार 179 जनसंख्या लाभान्वित होगी। स्वीकृत कार्य 36 माह की समयावधि में पूर्ण होगा।प्रभारी मंत्री श्री सिंह ने कहा कि आगर-मालवा जिला प्रदेश का प्रथम जिला है। जिसमें 480 गांवों के नागरिको को गुणवत्तापूर्ण पेयजल उपलब्ध कराने हेतु ग्रामीण जलसमूह योजना अन्तर्गत चयन किया गया है। मुख्यमंत्री कमलनाथजी के द्वारा जिले को यह सबसे बड़ी सौगात दी गई हैं। जिसका सीधा लाभ ग्रामीणजन को प्राप्त होगा। नागरिकों को पेयजल के लिए परेशानी न होगी तथा उन्हें दूर स्थानों से घरेलू उपयोग हेतु पानी नहीं लाना पड़ेगा। प्रभारी मंत्री श्री सिंह ने कहा कि योजना का क्रियान्वयन हो जाने से जिले को एक अलग पहचान मिलेगी।
  कलेक्ट्रेट सभागृह में आयोजित इस बैठक में कलेक्टर संजय कुमार, पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह, विधायक राणा विक्रमसिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कलाबाई गुहाटिया, एनएसआईयू प्रदेश अध्यक्ष  विपिन वानखेड़े,  शमीउल्ला कुरैशी, अंकुश भटनागर,मानकुंवर बाई, शीतल जैन सहित समस्त विभागों के अधिकारी एवं समिति के अन्य सदस्यगण मौजूद रहे। बैठक के प्रारम्भ में सभी उपस्थितजनों द्वारा दो मिनिट का मौन धारण कर स्व. विधायक मनोहर ऊंटवाल को श्रृद्धांजलि अर्पित की गई। 
  बैठक में समस्त विभाग की जानकारी पावर प्वाईंट प्रजेंटेशन के माध्यम से प्रस्तुत की गई। प्रभारी मंत्री श्री सिंह ने बैठक में विभागवार योजनाओं की जानकारी प्राप्त कर निर्देश दिए कि सभी जिला अधिकारीं निर्धारित समयसीमा में योजनाओं में लक्ष्य पूरें करें। जिले में जो निर्माण कार्य स्वीकृत हुए तथा जो कार्य पूर्ण हो चुके हैं, जनप्रतिनिधियों से चर्चा कर उनका भूमिपूजन एवं उद्घाटन करवाया जाए। मंत्री श्री सिंह ने उप संचालक सालरिया को गो-अभ्यारण्य में गायों के लिए सभी आवश्यक व्यवस्था रखने  तथा गो-अभ्यारण में जो कार्य लम्बित है, उनके प्रस्ताव स्वीकृति हेतु भेजे जाने के निर्देश दिए। उन्होंने बैजनाथ मंदिर का जीर्णाेद्धार करवाने की जानकारी ली। प्रभारी मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि विभागों में जो कार्य लम्बित है, उनके प्रस्ताव तैयार कर शासन स्तर पर भेजें जाए, ताकि स्वीकृत होने पर कार्य करवाएं जा सकें। उन्होंने निर्देश दिए कि कुण्डालिया बांध अन्तर्गत भू-अर्जन संबंधी जो प्रकरण शेष बचे है, उनका आगामी 15 दिवस में निराकरण करें। विद्युत विभाग के अधिकारी जिले के नागरिकों की विद्युत समस्याओं का तत्परता से निराकरण करना सुनिश्चित करे।
  बैठक में विधायक श्री राणा द्वारा कंठाल नदी की क्षतिग्रस्त पुलिया के बारे में अवगत कराया गया। प्रभारी मंत्री श्री सिंह ने कलेक्टर को उक्त पुलिया का दुरूस्तीकरण के संबंध में आवश्यक निर्देश जारी किए गए। कलेक्टर ने बताया कि उक्त पुलिया क्षतिग्रस्त हो चुकी है, जिससे भारी वाहनों का आवगमन प्रतिबंधित किया गया है। विधायक श्री राणा द्वारा चिकित्सालयों में चिकित्सकों की कमी के बारे में जानकारी दी गई। प्रभारी मंत्री द्वारा सीएमएचओ को चिकित्सकों की ड्यूटी के संबंध में निर्देश जारी किए गए। विधायक द्वारा सुसनेर में बंजारा समाज के लोगों को ग्राम आबादी हेतु भूमि आवंटित करने को कहा गया। प्रभारी मंत्री द्वारा भूमि आवंटन हेतु प्रस्ताव भेजने के निर्देश कलेक्टर को दिए गए। बैठक में तनोड़िया एवं बड़ागांव में थाना बनाए जाने हेतु प्रस्ताव भेजने के निर्देश प्रभारी मंत्री द्वारा दिए गए। 
 बैठक में प्रभारी मंत्री श्री सिंह द्वारा शाजापुर जिले की तहसील मोहनबड़ोदिया के राजस्व निरीक्षक वृत्त-01के पटवारी हल्का नम्बर 01 से लगायत 12 तक कुल 41 गांव को शामिल हुए बड़ागांव को तहसील बनाने तथा तहसील आगर के राजस्व निरीक्षक वृत्त पांचारूण्डी को शामिल कर राजस्व निरीक्षक वृत्त कानड़ को तहसील का दर्जा दिए जाने हेतु शासन स्तर पर प्रस्ताव भेजने की अनुशंसा की गई।