नदियों के त्रिवेणी संगम पर विराजे है तारकेश्वर महादेव: ग्वालियर रियासत ने करवाया था निर्माण

सुसनेर। नगर से करीब 15 किलो मीटर दूर त्रिवेणी संगम पर स्थित क्षेत्र का प्रसिद्ध तारकेश्वर महादेव मंदिर श्रृद्धालुओ की आस्था का केन्द्र बना हुआ है। यह क्षेत्र कभी ग्वालियर रियासत का हिस्सा था। मंदिर निर्माण के सम्बंध में मान्यता है की ग्वालियर राजघराने के श्रीमंत सरकार जीवाजीराव के द्वारा मंदिर का निर्माण कराया गया था।
मोडी के समीप ग्राम ताखला में लखुंदर,कालीसिंध तथा भाटन नदी का त्रिवेणी संगम होने से इस स्थान का विशेष महत्व माना जाता है। श्रावणमास में इस त्रिवेणी संगम पर भक्तो की भीड उमड़ती है। इस प्राकृतिक स्थल की आकर्षक छटा पर्यटको को अपनी ओर आकर्षित करने के साथ यहा आने वाले लोगो का मनमोह रही है। त्रिवेणी संगम पर आकर मिलने वाली लखुंदर, कालीसिंध ओर भाटन तीनो नदीयो के जल का दृश्य देखते ही बनता है। सावन में पहाडी से कल- कल बहता झरना भी श्रृद्धालुओ को अपनी ओर खींचता  है। इसी संगम के समीप कालीसिंध नदी के तट पर पूर्व दिशा में तारकेश्वर महादेव का प्राचीन मंदिर स्थित है। मंदिर का शिवलिंग स्वयंभू होकर बडे आकार का है। शिवलिंग के चारो ओर पीतल के कवच की जलाधारी लगी हुई है। ताखला में प्रति वर्ष कार्तिक पुर्णिमा पर एक दिवसीय मेले का आयोजन भी किया जाता है। इस दिन मेले में आने वाली युवतीया अच्छे वर की प्राप्ती के लिए नदी में द्वीप जलाकर कालीसिंध नदी की पूजा- अर्चना भी करती है।


सावन माह का फाईल फ़ोटो


शिलालेख पर उल्लेख है जानकारी
इस प्राकृतिक स्थल की जानकारी प्राचीन शिलालेख पर उल्लेखित है। जिसके अनुसार औकाफ डिपार्टमेंट ग्वालियर श्रीमंत सरकार जीवाजीराव साहब शिंदे अलीबहादुर के हुकुम से नदी कालीसिंध नदी, लखुंदर नदी ओर भाटन नदी के संगम व दुसरे पवित्र स्थानो पर नदी किनारे 300 गज तक हर तरह के शिकार करने की मनाही है। जो इस हुकुम को उसे ताजीराव ग्वालियर की दफा 263 के तहत सजा दी जाएगी। इस जानकारी के आधार पर इस स्थान को ग्वालियर रियासत के समय निर्मित होना बताया गया है।


Popular posts
कोरोना से कब मिलेगी पृथ्वी को निजात.... 👏👏👏 ब्यावर के एस्ट्रोलॉजर दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी .... गुरु हस्ती कृपा से ग्रहों के अनुसार पृथ्वी पर आने वाले अगले लगभग 175 दिनों तक यानी 23 सितंबर 2020 तक विश्व के कई देशों में कोरोना जैसे वायरस या अन्य तरह के कई वायरसों से या प्राकृतिक आपदाओं से या युद्ध से तबाही होने के संकेत परंतु भारत को आने वाले लगभग 90 दिनों तक बेहद संभलकर चलने की जरूरत यानी लगभग 06 जुलाई 2020 तक भारत इस वायरस पर पूरी तरह से अंकुश लगाने में हो जाएगा कामयाब , इसके अलावा 29 अप्रैल 2020 को पृथ्वी के पास से गुजरने वाले एस्टरॉयड से नहीं होगा दुनिया का अंत , कहते हैं ब्रह्मांड में कोई ईश्वरीय शक्ति मौजूद है , यदि नाहटा के बताए गए मंत्रों को पूरे भारतवासी कर गए तो नाहटा का मानना है कि जल्दी ही आज से 40 दिनों के भीतर यानी 14 मई 2020 तक भारत इस वायरस पर काबू पाने में सफल हो जाएगा और इन मंत्रों को करने वालों को यह वायरस छू भी नहीं सकेगा , इसके अलावा देश सेवा हेतु लोक कल्याण की भावना के उद्देश्य से नाहटा पूरे देशभर की जनता को हिम्मत देने हेतु यानी देशभर की जनता का मनोबल बढ़ाने के उद्देश्य से 06 अप्रैल 2020 से ज्योतिष के माध्यम से नाहटा बिल्कुल निशुल्क रूप से प्रतिदिन लोक डाउन तक देशभर की जनता के द्वारा पूछे गए दो सवालों का जवाब देंगे एवं नाहटा ने भारत सरकार को दिए सात नए सुझाव , इस एप्स में जानिए पूरी डिटेल्स .....
Image
Prediction of Beawar's Astrologer Dilip Nahta on 04 May
Image
आगर पुलिस को मिली बड़ी सफलता:चार पहिया वाहन चोर गिरोह पकड़ाया:यूपी में बेचते थे चोरी की गाड़िया
Image
धरती पर अब एक नया हीरो आ गया है और आपको हीरो के बारे में यह चीज़ें ज़रूर जाननी चाहिए
Image
काटेलाल एंड संस’ की जिया शंकर ने कहा, फैशन रोजमर्रा की जिन्दरगी की हकीकत से बचने का एक हथियार है
Image