फिर सियासी रंग में रंगी आगर विधानसभा सीट:उपचुनाव को लेकर मंथन शुरू

आगर मालवा- भाजपा का गढ़ माने जाने वाली आगर विधानसभा सीट एक बार फिर सियासी रंग में रंगी हुई नजर आ रही है। भाजपा विधायक मनोहर ऊँटवाल के निधन के बाद रिक्त हुई सीट पर भाजपा कांग्रेस दोनों ही दलों की निगाहें लगी हुई है।कांग्रेस यहा जीत हासिल कर बढ़त बनाने के हर संभव प्रयास करेगी जबकि भजपा अपना सम्मान बचाने के लिए हरहाल में सीट बरकरार रखना चाहेगी।
उपचुनाव के मद्देनजर दोनों ही दलों से दावेदारों ने दौड़ धूप शुरू कर दी है।
इस सीट पर दोनों ही दल प्रत्याशी जातीगत समीकरण बैठाने के बाद ही तय करेंगे।परंपरागत रूप यह सीट भाजपा का अभेद किला रही है। आगर में उपचुनाव सहित अब तक हुए 16 निर्वाचन में कांग्रेस महज 4 बार जीत का स्वाद चख सकी है। कांग्रेस भाजपा के गढ़ को भेदने के हर संभव प्रयास कर रही है वही भाजपा अपने किले को बचाने हेतु ताकत झोकेगी। गत विधानसभा में बेहद नजदीकी मुकाबले में मनोहर ऊँटवाल कांग्रेस प्रत्याशी वीपीन वानखेड़े से जीत पाये थे।जिले की आगर विधानसभा क्षेत्र अजा सुरक्षित है। 2013 में जिला बनने के साथ मुख्यालय की यह सीट राजनीतिक व प्रशासनिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है। आगर सीट वर्ष 1967 में अजा सुरक्षित हुई थी। इसके पूर्व 1952 का पहला चुनाव और बाद में तीन बार क्षेत्र की जनता ने कांग्रेस पर भरोसा जताया है। शेष 12 चुनाव जनसंघ, जनता पार्टी और भाजपा के खाते में गए हैं। 



आगर विधानसभा का जातिगत  समीकरण
आगर विधानसभा क्षेत्र में बड़ौद तहसील सहित कानड़ टप्पा शामिल है। यहां मालवीय व रविदास समाज के मतदाताओं की संख्या सबसे ज्यादा है। इन दोनों ही समाज द्वारा अपनी जातिगत मतदाता संख्या को आधार बनाकर टिकिट की मांग की जाती है। इस आरक्षित सीट पर 5 बार इन दोनों ही समाज के विधायक निर्वाचित होकर विधानसभा पहुंचे है। वहीं खटीक, बैरवा व वाल्मिकी समाज के उम्मीदवार भी इस सीट पर विजय हुए है। बडौद क्षेत्र में पिछडा वर्ग में सबसे अधिक मतदाता सोंधिया समाज के है। आगर क्षेत्र में यादव समाज के मतदाता भी बड़ी संख्या में है। वहीं मुस्लिम समाज व अन्य पिछडा वर्ग की जातियां भी इस क्षेत्र में बडी संख्या में है। 


आगर विधानसभा का पूरा लेखा जोखा
वर्ष          विधायक
2018 मनोहर ऊँटवाल 
2014 गोपाल परमार, भाजपा उप चुनाव
2013 मनोहर ऊंटवाल, भाजपा
2008  लालजीराम मालवीय, भाजपा
2003  रेखा रत्नाकर, भाजपा
1998 रामलाल मालवीय, कांग्रेस
1993  गोपाल परमार, भाजपा
1990  नारायणसिंह केसरी, भाजपा
1985  शंकुतला चौहान, कांग्रेस
1980 भूरेलाल फिरोजिया, भाजपा
1977 सत्यनारायण जटिया, जनता पार्टी
1972 मधुकर मरमट, कांग्रेस
1967 भूरेलाल फिरोजिया, जनसंघ
1962  मदनलाल भंडारी, जनसंघ
1957  मदनलाल भंडारी, जनसंघ
1952  सौभागमल जैन, कांग्रेस
*जानकारी  जिला प्रशासन के अनुसार।


Popular posts
कोरोना से कब मिलेगी पृथ्वी को निजात.... 👏👏👏 ब्यावर के एस्ट्रोलॉजर दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी .... गुरु हस्ती कृपा से ग्रहों के अनुसार पृथ्वी पर आने वाले अगले लगभग 175 दिनों तक यानी 23 सितंबर 2020 तक विश्व के कई देशों में कोरोना जैसे वायरस या अन्य तरह के कई वायरसों से या प्राकृतिक आपदाओं से या युद्ध से तबाही होने के संकेत परंतु भारत को आने वाले लगभग 90 दिनों तक बेहद संभलकर चलने की जरूरत यानी लगभग 06 जुलाई 2020 तक भारत इस वायरस पर पूरी तरह से अंकुश लगाने में हो जाएगा कामयाब , इसके अलावा 29 अप्रैल 2020 को पृथ्वी के पास से गुजरने वाले एस्टरॉयड से नहीं होगा दुनिया का अंत , कहते हैं ब्रह्मांड में कोई ईश्वरीय शक्ति मौजूद है , यदि नाहटा के बताए गए मंत्रों को पूरे भारतवासी कर गए तो नाहटा का मानना है कि जल्दी ही आज से 40 दिनों के भीतर यानी 14 मई 2020 तक भारत इस वायरस पर काबू पाने में सफल हो जाएगा और इन मंत्रों को करने वालों को यह वायरस छू भी नहीं सकेगा , इसके अलावा देश सेवा हेतु लोक कल्याण की भावना के उद्देश्य से नाहटा पूरे देशभर की जनता को हिम्मत देने हेतु यानी देशभर की जनता का मनोबल बढ़ाने के उद्देश्य से 06 अप्रैल 2020 से ज्योतिष के माध्यम से नाहटा बिल्कुल निशुल्क रूप से प्रतिदिन लोक डाउन तक देशभर की जनता के द्वारा पूछे गए दो सवालों का जवाब देंगे एवं नाहटा ने भारत सरकार को दिए सात नए सुझाव , इस एप्स में जानिए पूरी डिटेल्स .....
Image
Prediction of Beawar's Astrologer Dilip Nahta on 04 May
Image
आगर पुलिस को मिली बड़ी सफलता:चार पहिया वाहन चोर गिरोह पकड़ाया:यूपी में बेचते थे चोरी की गाड़िया
Image
धरती पर अब एक नया हीरो आ गया है और आपको हीरो के बारे में यह चीज़ें ज़रूर जाननी चाहिए
Image
काटेलाल एंड संस’ की जिया शंकर ने कहा, फैशन रोजमर्रा की जिन्दरगी की हकीकत से बचने का एक हथियार है
Image