आजीविका मिशन के स्व सहायता समूह की महिलाएं कोरोना वायरस की रोकथाम हेतु कर रही हैं साहसिक कार्य

सुसनेर। जहाँ सम्पूर्ण विश्व नोवल कोरोना वायरस (CAVID-19) जैसी संक्रामक महामारी से जूझ रहा हैं। वहीं भारत देश इस बीमारी की रोकथाम हेतु एक जुट हैं। सरकारी तंत्र से लेकर स्वयं सेवी संस्थाएं भी कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग कर रही हैं। ताकि हम सब मिलकर इस जंग से पार पा सके और पूर्व की तरह सामान्य जीवन व्यतीत कर सके।


इस बीच आगर मालवा के  राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत स्व सहायता समूह की महिलाएं भी कोरोना जैसी महामारी की रोकथाम व उसके संक्रमण को रोकने हेतु साहसिक कार्य करते हुए अपना योगदान दे रही हैं। स्व सहायता समूह की यह महिलाएं मास्क, साबुन व सेनिटाइजर तैयार कर रही हैं। इनके द्वारा तैयार किये जा रहे मास्क, साबुन व सेनिटाइजर जिला प्रशासन को उपलब्ध करवाये जा रहे हैं। अभी तक इनके द्वारा 18400 मास्क, 2200 साबुन व 20 लीटर सेनिटाइजर तैयार किये जा चुके हैं जो कि जिला प्रशासन, ग्राम पंचायत, स्वास्थ्य विभाग, नगर पालिका, महिला बाल विकास विभाग के माध्यम से ग्रामीण परिवारो तक पहुचाये जा चुके हैं। मास्क कॉटन के कपड़े में सस्ते दर पर उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। निर्माण करते समय महिलाओं द्वारा साफ सफाई व सोशल डिस्टेंस का पूरा ध्यान रखा जा रहा हैं।महिलाएं स्वयं मास्क लगाकर इस कार्य को कर रही हैं। बीच- बीच महिलाओं द्वारा सेनिटाइजर व साबुन का उपयोग किया जा रहा हैं तथा मास्क की पैकिंग में पूरी सुरक्षा का ध्यान रखा जा रहा हैं। मास्क के उपयोग में किसी प्रकार के संक्रमण की संभावना न रहे।


आजीविका मिशन की जिला‌ प्रबधक‌ रीना कुमारिया ने बताया कि मास्क निर्माण का यह कार्य ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत संचालित सहेली सामुदायिक सहयोग संस्था तनोडिया आगर, ज्योति समुदायिक सहयोग संस्था कानड़,एकता सामुदायिक सहयोग संस्था बड़ौद व जागृति सामुदायिक सहयोग संस्था सुसनेर द्वारा किया जा रहा हैं। इन समस्त उत्पादों के निर्माण की मॉनिटरिंग मिशन के अधिकारियों द्वारा की जा रही है जिसमें हाइजिन व सोशल डिस्टनसिंग का विशेष ध्यान रखा जा रहा हैं। इन संस्थाओं अंतर्गत इस कार्य मे संलग्न समूह की महिलाएं इस दौरान मास्क बनाने के कार्य को सामाजिक व परोपकार का कार्य समझकर कर रही हैं।


महिलाओं का कहना हैं कि आज देश कोरोना वाइरस के संक्रमण काल के कठिन दौर से गुजर रहा है, देश को इस कठिन परिस्थितयो से निकालने में हम आजीविका मिशन की महिलाएं इस कार्य को हम बड़े उत्साह व रुचि से कर रही हैं। लॉकडाउन के समय जहाँ लोगो का समय घर मे रहकर व्यतीत नही हो रहा हैं, ऐसे समय मे हम भी अन्य कार्यकर्ताओं की तरह देश सेवा कर अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रही।