कोरोना महामारी से निपटने के लिए कोविड-19  प्लान तैयार: सुसनेर अनुभाग में 12 एवं आगर अनुभाग 09 क्वारेंटाइन सेंटर बनाए

आगर-मालवा- कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए कलेक्टर संजय कुमार के मार्गदर्शन एवं निर्देशन में सभी आवश्यक तैयारियां जिला स्तर पर की गई है। वायरस से आमजन की सुरक्षा हेतु जिला प्रशासन द्वारा हर जरूरी कदम उठाए जा रहे है। सम्पूर्ण जिला धारा 144 के तहत 14 अप्रैल तक टोटल लाॅकडाउन किया गया है। कोरोना महामारी के संक्रमण की रोकथाम हेतु जिला एक्शन प्लान कोविड-19 भी जिला प्रशासन द्वारा तैयार किया गया है। जिला एक्शन प्लान के अंतर्गत 18 टीमों का गठन किया गया जो कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए विभिन्न दायित्व का निर्वहन कर रही है। साथ ही कलेक्टर की अध्यक्षता में 7 सदस्यीय जिला स्तरीय संकट प्रबंधन समूह का गठन किया गया है, जो कोरोनावायरस संक्रमण से उत्पन्न आपात स्थिति के नियंत्रण हेतु राज्य सरकार द्वारा जारी निर्देशों आकस्मिक कार्य योजना तैयार कर क्रियान्वयन हेतु आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करेगा। 
 संपूर्ण में जिले में स्वास्थ्य सर्वे हेतु 612 स्वास्थ्य सर्वे टीम का गठन किया गया है। जिले में कोई पॉजिटिव केस होता है, तो उन्हें क्वॉरेंटाइन करने हेतु कुल 21 क्वारेंटाइन सेंटर जिले में बनाए गए है। जिसमें आगर अनुभाग में 9 एवं सुसनेर अनुभाग में 12 क्वारेंटाइन सेंटर, है। प्रत्येक क्वारेंटाईन सेंटर पर सैनिटाइजेशन एवं साफ सफाई व्यवस्था हेतु दो-दो कर्मचारियों की व्यवस्था नगरीय निकायों द्वारा की गई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा संपूर्ण जिले में किसी भी संक्रमित या संभावित व्यक्ति को रिस्पांस करने के लिए 18 टीमों का गठन किया गया है। प्लान के अंतर्गत मेनपाॅवर, वाहन एवं अन्य जरूरी वस्तुओं का आंकलन भी किया गया है। इस संकट के समय विभिन्न समाज सेवी संगठन एवं 451 नागरिकों द्वारा प्रशासन की सहायता हेतु शासकीय पोर्टल पर आवेदन भी किया गया है। जिला प्रशासन द्वारा जिले में 7 अप्रैल 2020 तक 6591 बेघर एवं बेसहारा है, उन्हें आटा, दाल, चावल, तेल, मसाला इत्यादि खाद्यान्न भी मुहैया कराया गया है।


जिले में जरूरतमंदों को जन सहयोग एवं प्रशासन के द्वारा प्रतिदिन 8500 पैकेट भोजन के उपलब्ध कराए जा रहे है। जिले की समस्त बॉर्डर सील कर दी गई है एवं अंतरराज्यीय एवं अंतर जिला नाको के लिए भी टीमें गठित कर तैनात की गई है। जिससे की अन्य राज्य एवं जिलों के व्यक्तियों का आवागमन एवं पलायन से रोका जा सके। मेडिकल केस होने पर जिले से बाहर जाने की अनुमति होगी। जिला प्रशासन द्वारा अब तक अन्य राज्य व जिलों से आए हुए 3298 मजदूरों को उनके गंतव्य तक मेडिकल चेकअप कराकर पहुंचाया गया है। अन्य जिलों से आए 1372 मजदूरों को होम कोरेंटाइन किया गया है। 
टोटल लाॅकडाउन में दूध डेयरी, फल-सब्जी, किराना दुकान, मेडिकल स्टोर, पेट्रोल पम्प, गैस सिलेण्डर वितरण को निर्धारित सीमा के लिए खुला रखा गया है। जिले में 24*7 घंटे के लिए जिला स्तरीय कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। जिसका दूरभाष क्रमांक 07362-292100, 292101 है। स्वास्थ विभाग द्वारा भी अपना काल सेंटर दूरभाष क्रमांक 9111708317/9111861264 स्थापित किया गया है। जिला प्रशासन जिले की सुरक्षा एवं कोरोनो संक्रमण को रोकने के लिए तैयार है।