कौन बनेगा ग्रामीण सरकार का सरताज? भाजपा व कांग्रेस में होगा कड़ा मुकाबला:जिला पंचायत सदस्यों के मतों का सारणीकरण एवं निर्वाचन परिणामों की घोषणा के बाद शुरू हुई जोड़तोड़ की राजनीति:भाजपा से मुन्नाबाई भेरू सिंह चौहान,तो कांग्रेस से विजयालक्ष्मी रामलाल तंवर हो सकते है दावेदार

 

आगर-मालवा- राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा त्रि-स्तरीय पंचायत निर्वाचन हेतु घोषित कार्यक्रम अनुसार जिला पंचायत सदस्य पद के लिए तीन चरणों में संपन्न हुए मतदान का कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी अवधेश शर्मा, प्रेक्षक महेन्द्र सिंह भिलाला की उपस्थिति में 15 जुलाई को पॉलिटेक्निक महाविद्यालय में जिला स्तरीय सारणीकरण कर निर्वाचन परिणामों की घोषणा की गई।अधिकृत घोषणा के बाद से ही राजनेतिक गलियारों में दौड़ धूप का सिलसिला शुरू हो गया है। बताया जा रहा है कि भाजपा व कांग्रेस दोनो ही दलो के पास बराबर उम्मीदवार है।वही 2 निर्दलीय उम्मीदवार विजय हुवे है। ऐसे में मुकाबला बेहद रोचक हो गया है। भाजपा से मुन्नाभाई भेरू सिंह चौहान,तो कांग्रेस से विजयालक्ष्मी नितिन गर्ग प्रमुख दावेदार बताये जा रहे है। हालांकि अभी पार्टी द्वारा किसी को भी अधिकृत नही किया गया है।
 निर्वाचन क्षेत्र क्रमांक-01 से नारायणसिंह सौधिया पिता देवीसिंह,  क्रमांक-02 से प्रियंका जगदीश भ्याँजा, क्रमांक-03 मेहरबानसिंह पिता भगवानसिंह सिसौदिया, क्रमांक-04 से विजयलक्ष्मी रामलाल तंवर, क्रमांक-05 संगीताबाई पति सुरेश व्यास चिप्या, क्रमांक-06 मुन्नाबाई पति भैरूसिंह चौहान, क्रमांक-07 से मोहनलाल मकवाना, क्रमांक-08 से ममता मुकेश केलकर, क्रमांक-09 से रेखाबाई पाटीदार एवं निर्वाचन क्षेत्र क्रमांक-10 जितेन्द्र(जितु) पाटीदार पिता मनोहर लाल पाटीदार निर्वाचित हुए। निर्वाचित सदस्यों को कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा प्रमाण पत्र प्रदान किए है। 
वार्ड 1: इस वार्ड में 7 प्रत्याशी मैदान में थे। विधिमान्य मत 38 हजार 64 रहे, जिसमें से गुमानसिंह को 8190, मयंक शर्मा को 1901 नारायणसिंह, को 13,584, नरसिंह लाल दांगी 8170, शिवलाल दांगी 781, सुल्तानसिंह को 3556, सुनिता पाटीदार को 1785 तथा नोटा को 97 मत मिले। नारायणसिंह निकटतम प्रतिद्वंद्वी से 5394 मतों से जीते।
वार्ड 2: कुल 8 प्रत्याशी मैदान में थे। विधिमान्य मत 32 हजार 88 रहे जिसमें कंचनबाई को 1093, पार्वतीबाई को 2302 पेपाबाई को 8131, प्रेम वर्मा को 21:20, प्रियंका भ्यांजा को 9461 रामुबाई को 2314, रेशमबाई को 2334, शांतिबाई बोडाना को 4274 व नोटा को 59 मत मिले। प्रियंका भ्यांजा को जीत मिली।
वार्ड 3:  कुल 5 प्रत्याशी मैदान में थे। विधिमान्य मत 22 हजार 910 रहे. जिसमें से दशरथसिंह को 2139, धीरपसिंह को 4743, दौलतसिंह को 3291, मेहरबानसिंह को 7038, विजयसिंह को 5648 व नोटा को 51 मत मिले। मेहरबान सिंह जीते। 
वाई 4: 6 प्रत्याशी मैदान में थे। कुल विधिमान्य मत 27 हजार 502रहे जिसमें से चंदरसिंह यादव को 918, गुमानसिंह को 4980, मानसिंह को 4148, प्रतापसिंह को 1463, पुष्पेन्द्र व्यास को 679, विजयालक्ष्मी तंबर को 15 हजार 253, नोटा को 61 मत मिले।विजयलक्ष्मी तंवर को 10,253 जीत मिली।
वार्ड 5: कुल 8 प्रत्याशी मैदान में
थे। विधिमान्य मत 24,840 रहे। जिसमें से गोपालबाई को 1681, कलाबाई को 2599 कुशालबाई को 3905, संगीताबाई सुरेश व्यास(बोस) को 5340, सावित्रीबाई सीताराम को 2796, श्यामूबाई बगड़ावत को 3457 विमलबाई को 661,विष्णुबाई को 4409 व नोटा को 102 मत मिले। संगीताबाई व्यास ने इस वार्ड से ऐतिहासिक जीत दर्ज की।
वार्ड 6:  यहा 3 प्रत्याशी मैदान में थे। विधिमान्य मत 23 हजार 801 रहे, जिसमें से गीताबाई को 3309,  मुन्नाबाई भेरूसिंह चौहान को 11 हजार 805, सौरमबाई बाबुलाल यादव को 8584 व नोटा को 103 मत मिले। हाई वोल्टेज मुकाबले में मुन्नाबाई विजयी रहीं।
वार्ड 7 : इस वार्ड 7 प्रत्याशी मैदान में थे। विधिमान्य 25 हजार 26 मतों में से हरिकिशन को 2535, ईश्वर मालवीय को 1409, जगदीश परमार को 3260, लालूराम मालवीय को 4736,
मोहनलाल मकवाना को 9318 3 राजकुमार गौरे को 1234, सीताबाई को 2472 व नोटा को 62 मत मिले। कड़े मुकाबले वाले वार्ड में मोहनलाल मकवाना ने अपने प्रतिद्वंद्वी को 4582 मतो से हराया।
वार्ड 8: वार्ड में 3 प्रत्याशी मैदान में थे।विधिमान्य मत 24 हजार 306 रहे, जिसमें से ममता मुकेश केलकर को 10,320, मानूबाई बाबूलाल को 8116, प्रकाश सोलंकी को 5745 व नोटा को 125 मत मिले। ममता केलकर चुनाव जीतीं।
वार्ड 9: यहा 8 प्रत्याशी मैदान में थे। विधिमान्य 29,455 मतों में से गायत्री यादव को 2547 गोविंद कुंवर को 2995 कलमबाई को 1985, लीलाबाई को 2895, रामकुंवरबाई को 4624, रेखाबाई पाटीदार को 6637, सावित्री बाई गुर्जर को 5400, सायरबाई को 2303 व नोटा को 69 मत मिले। रेखाबाई पाटीवार जीती।
वार्ड 10: 7 प्रत्याशी मैदान में थे। 30,133 विधिमान्य मत में से चैनसिंह सिसौदिया को 6739, गोविंद पाटीदार को 7037, ईश्वर सिंह गोंदलमऊ को 4262 जितेन्द्र पाटीदार को 8783  कालूसिंह सिसौदिया को 1226, राजाराम को 1630, सुनिल कुमार को 369 और नोटा को 87 मत मिले। जितेन्द्र पाटीदार जीते।