पंचकल्याणक महोत्सव को लेकर शुरू हुई तैयारीयां, 23 से 30 जनवरी तक होगा आयोजन

सुसनेर। आचार्य श्री दर्शन सागरजी महाराज के सानिध्य में सकल दिगम्बर जैन समाज के तत्वाधान में 23 जनवरी 2020 से 30 जनवरी तक आयोजित होने वाले पंचकल्याणक महोत्सव की तैयारीयां समाजजनो के द्वारा शुरू कर दी गई है। तैयारीयों काे लेकर बैठको का दौर जारी है। महोत्सव में हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं के शामिल होने की संभावनाओं को देखते हुएं व्यवस्थाए जुटाई जा रही है। बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को समाजजनों के द्वारा अपने घरों में मेहमान बनाकर ठहराया जाएगा। इसके लिए सामाजिक स्तर पर सर्वे करके जैन समाज के घरों व उनके परिजनों के अलावा कितने लोगो के रूकने की व्यवस्था ओर की जा सकती है इसकी जानकारी जुटाई जा रही है। आयाेजन के लिए कृषि उपज मण्डी में डोम सहित अन्य व्यवस्थाएं कि जाएगी। इसके लिए इंदौर की एक फर्म को जिम्मैदारी सोपी गई है। महोत्सव में आने वाले लोगो के वाहनो की पार्किंग के लिए बडा जीन परिसर का चयन किया गया है। जहां पर छोटे-बडे सहित कई प्रकार के वाहन खडे किए जा सकेंगे। कार्यक्रम का मुख्य आयोजन इंदौर-कोटा राजमार्ग पर स्थित जैन तीर्थ त्रिमूर्ति मंदिर में व कृषि उपज मण्डी में होगा। 
विधानाचार्यो के द्वारा सम्पन्न कराई जाएगी प्रतिमाओं के स्थापना की क्रियाएं
एक और मंदिर में जहां जैन धर्म के प्रतिष्ठित विधानाचार्य पवन दिवान और इंदौर उदासीन अाश्रम के तरूण ब्रह्मचारी और इंदौर के नितीन झांझरी व हस्तिनापुर उत्तर प्रदेश के एक अन्य विधानाचार्य के द्वारा 375 प्रतिमाओं की स्थापना की प्रक्रियाएं पूरी की जाएगी। तो वही कृषि उपज मण्डी में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए अन्य धार्मिक व सामाजिक गतिविधियां संचालित कि जाएगी। 23 से 30 जनवरी तक आयोजित किए जाने वाले इस आयोजन के दोरान 27 जनवरी को विशाल कवि सम्मेलन का भी आयोजन किया जाएगा। जिसमें कई राष्ट्रीय स्तर के कवि शामिल होंगे। 
आयोजन कि लिए शुरू हुआ समितियों का गठन
इस पूरे आयोजन को व्यवस्थित तरीके से संचालित करने व विभिन्न प्रकार की व्यवस्थाओं के लिए कूल 18 समितियों का गठन किया जा रहा है। शनिवार की शाम को त्रिमूर्ति मंदिर में आयाेजित कि गई बैठक के दोरान कुछ समितियों का गठन तो किया जा चुका है। शेष समितियों का गठन भी जल्द ही किए जाएगा।
समाजजनो के द्वारा घर-प्रतिष्ठानो से एकत्रित किया जा रहा जनसहयोग
पंचकल्याणक महोत्सव को सफल बनाने के लिए जैन समाज के प्रत्येक घर व प्रतिष्ठानों से जन सहयोग एकत्रित किया जा रहा है। इसके तहत युवाओं से लेकर बडे तक की एक समिति बनाई गई है जो नगर में सुबह-शाम घर-घर व दुकानों पर जाकर समाजजनो से जनसहयोग के रूप राशि का एकत्रितकरण कर रही है।