1965 के पंचकल्याणक में बनी पांडुकशिला पर होगा आदिनाथ भगवान का जन्माभिषेक

सुसनेर। सुसनेर की पावन धरा पर सकल दिगम्बर जैन समाज के द्वारा 23 से 30 जनवरी तक पंचकल्याणक महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। जिसकी जोर शोर से तैयारीयां की जा रही है। इसमें खास बात यह है कि बडा जीन परिसर में 1965 में आयोजित पंचकल्याणक महोत्सव में बनाई गई पांडुकशिला को पुन: रंग-रोगन करके तैयार किया जा रहा है।


 


अब 2020 में आचार्य  दर्शन सागरजी महाराज के सानिध्य में आयोजित होने वाले पंचकल्याणक महोत्सव में इसी पांडुकशिला पर सौ धर्म इन्द्रों के द्वारा आदिनाथ भगवान का जन्माभिषेक किया जाएगा। उसके बाद बोली लेने वाले समाजजनो के द्वारा 1008 कलशो से अभिषेक किया जाएगा। उक्त जानकारी समाज के प्रेमचंद जैन, अभय जैन व अशोक जैन मामा ने देते हुवे बताया कि मेला ग्राउण्ड में सन् 1965 में पंचकल्याणक महोत्सव का आयोजन किया गया था। तब बडा जीन परिसर में इस पांडुकशिला का निर्माण किया गया था। उसके बाद बीते 54 वर्षो में नगर में कई बार पंचकल्याणक महोत्सव का आयोजन किया गया तब भी इस पांडुकशिला के साथ त्रिमूर्ति मंदिर में भगवान का जन्माभिषेक महोत्सव मनाया गया था। अब पुन:सौभाग्य वश 2020 में 23 से 30 जनवरी तक आयोजित होने वाले पंचकल्याणक महोत्सव के दोरान 26 जनवरी काे इसी पांडुकशिला पर भगवान आदिनाथ का जन्माभिषेक महोत्सव हजारो श्रृद्धालुओं की उपस्थिति में मनाया जाएगा। इस आयोजन को लेकर समाजजनो ने आवश्यक सहयोग हेतु प्रशासनिक अधिकारीयों को आमंत्रण पत्रो के साथ सुचना देना भी शुरू कर दिया है। गत दिवस पंचकल्याणक महोत्सव समिति के सदस्यो ने एसडीएम मनीष जैन को इस आयोजन में आमंत्रित करते उनको पूरी रूपरेखा से अवगत भी कराया है। साथ ही सुरक्षा, यातायात व अन्य व्यवस्थाओं का सुचारू संचालन करने के एसडीओपी, थाना प्रभारी व अन्य अधिकारीयों से भी आग्रह किया गया है। इसके बाद थाना प्रभारी विवेक कानोडिया ने महोत्सव समिति के अध्यक्ष राजमल जैन व अन्य सदस्यों के साथ आयोजन स्थल का दौरा करके सारी व्यवस्थाओं का जायजा लिया है।