आगर में जो VIP बनकर आये थे वो उज्जैन में बने सरकारी मेहमान


आगर मालवा-खुद को नेपाल के उप राष्ट्रपति का सलाहकार बताकर उज्जैन के सर्किट हाउस में रुकने व माँ बगलामुखी के दर्शन करने वालो के दस्तावेजों की तहकीकात की गई, तो चौंकाने वाली हकीकत सामने आई। ये तीन लोग जयपुर के रहने वाले हैं और शहर में सर्किट हाउस में रात बिताने के लिए खुद को नेपाल के उप राष्ट्रपति का सलाहकार बता रहे थे।


उज्जैन पुलिस के अनुसार फर्जी दस्तावेज बनाकर नेपाल के उप राष्ट्रपति के सलाहकार बनकर सर्किट हाउस में रुकने की कोशिश कर रहे थे। जांच के बाद तीनों आरोपी पुलिस गिरफ्त में आए। पुलिस के अनुसार ये तीनों जयपुर के रहने वाले हैं।नेपाल के उपराष्ट्रपति का विशिष्ट सलाहकार बनकर उज्जैन पहुंचे व्यक्ति और उसके भाई व दोस्त को पुलिस ने सर्किट हाउस के कमरा नं. 1 से गिरफ्तार कर लिया है। तीनों ने बताया कि कल उन्होंने आगर जिले की नलखेड़ा तहसील स्थित विश्व प्रसिद्ध मां बगुलामुखी के दर्शन भी वीआईपी बताकर किए थे। वहीं से हिम्मत बढ़ती गई, और उज्जैन पहुंचकर भी इसीलिए हमने सर्किट हाउस में रुकने का प्लान बनाया।माधव नगर थाने के उपनिरीक्षक तरुण कुरील ने बताया कि पुलिस कप्तान को पूर्व से सूचना थी कि तीनों लोग ठग हैं। इस आधार पर सर्किट हाउस में इनके दस्तावेजों की जांच की गई। इनमें से एक ने अपना नाम महावीर प्रसाद टोरड़ी बताया और खुद को नेपाल सरकार के उप राष्ट्रपति नंदबहादुर पुन का विशिष्ट सलाहकार एवं रिजर्व बैंक ऑफ इंग्लैंड का गवर्नर प्रत्याशी बताया। उसके साथ उसका भाई प्रमोद शर्मा और दोस्त कुलदीप शर्मा है। अब पुलिस जांच कर रही है कि इन तीनों ने कितने लोगों को ठगा और क्या-क्या अन्य अपराध किए हैं।