बिना प्रेम का ज्ञान कोरा ज्ञान है: पंडित व्यास,भंडारे के साथ कल होगा समापन

 तनोडिया। ग्राम लिगोंडा  स्थित श्री खेड़ापति हनुमान मंदिर प्रांगण में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा सप्ताह के छठे दिन सोमवार को उद्धव प्रसंग के माध्यम से आचार्य पंडित सुनील कृष्ण व्यास ने कहा की उद्धव भगवान बृहस्पति का शिष्य बनकर ज्ञानवान तो हो गया। लेकिन बिना गोपियों के पास जाए जीवन में प्रेम को नहीं



आपाया। श्री कृष्ण ने प्रेम करने की कला गोपियों में पाई।आज उद्धव को भी वही प्रेम का पाठ सिखाने के लिए वृंदावन गोपियों के पास भेजा। श्री कृष्ण ने कहा उद्धव ज्ञान तो तुम्हारे पास बहुत है। लेकिन उस ज्ञान के साथ जीवन में अगर प्रेम ना हो तो वह केवल कोरा ज्ञान होता है। कथा में आज सुंदर रास की कथा का वर्णन करते हुए आपने कहा रास की कथा हृदय में उत्पन्न काम रोग को दूर करती है। जो रास की कथा में आता है उसका काम श्री कृष्ण की कृपा से दूर होता है। आपने श्री कृष्ण की द्वारिका लीला का वर्णन करते हुए। भगवान बलराम जी के विवाह और श्री कृष्ण रुक्मणी के विवाह का सुंदर वाचन किया। कथा प्रांगण में आज भव्य रुक्मणी और द्वारिकाधीश का विवाह उत्सव मनाया गया।विवाह के उपलक्ष्य पर भजनों का रसास्वादन किया।जिससे पुरा पंडाल वृदावन धाम बन गया। कल कथा के अंतिम दिन सुदामा चरित्र के साथ विशाल भंडारे का आयोजन रखा गया है। कथा का समापन मंगलवार को पुर्णाहुति के साथ शोभायात्रा एवं विशाल भंडारा के साथ होगा।