ध्वजारोहण और भगवान की रथ यात्रा के साथ शुरू हुवा पंचकल्याणक महोत्सव 




सुसनेर। सिर पर कलश लिए महिलाएं, बैंड पर बजते भजनो पर थिरकती युवाओं की टोली, रथ में सवार पार्श्वनाथ भगवान और उसको खींचते हुएं समाजजन, और अपने घर के द्वार पर आने पर समाजजनो के द्वारा आरती की जा रही थी तो वही घरों आचार्य दर्शन सागर जी महाराज का समाजजनो  द्वारा पाद प्रक्षालन भी किया जा रहा था। गुरूवार को दिन भर नगर की मुख्य सड़को पर यही नजारा दिखाई दे रहा था। यहां अवसर था नगर में सात वर्षो बाद आयोजित हो रहे दिगम्बर जैन समाज के पंचकल्याणक महोत्सव की शुरूआत का। जिसकी शुरूआत गुरूवार सुबह 8:30 बजे इंदौर-कोटा राजमार्ग स्थित त्रिमूर्ति मंदिर में तथा कृषि उपज मण्डी परिसर में मंत्रोच्चार के साथ कोमलचंद जैन व सचिन जैन के परिवार के द्वारा ध्वजारोहण करके की गई। यहां दसों दिशाओं का आह्वान करके 10 रंगों की धर्म पताकाएं भी लगाई गई। यहां पर झंडावंदन से पूर्व मंगल कलश भी चढाया गया। उसके बाद आयोजन में साथ सौ धर्म इंद्र, भगवान व उनके माता-पिता काे लेने के लिए समाजजन बैंड बाजे के साथ जूलूस के रूप में इंद्रो के घर पहुंचे तथा वहां से सम्मानपूर्वक उन्है लाया गया। इस दौरान सभी जगहों पर भगवान की माता की गोद भराई भी की गई। उसके पश्चात दोपहर में दिगम्बर जैन बडा मंदिर से भगवान पार्श्वनाथ की वार्षिक रथ यात्रा भी निकाली गई। रथ यात्रा की शुरूआत में अशोक कंठाली व उनके परिवार के द्वारा श्रीजी की आरती कर की गई। जिसके बाद श्रद्धालुओं ने अपने हाथों से श्रीजी के रथ को खींचकर रथ यात्रा की शुरूआत की। यात्रा में महिलाएं अपने सिर पर कलश लिये शामील थी। रथ यात्रा नगर के जुनीकचहरी से होते हुएं सराफा बाजार, शुक्रवारीया बाजार, स्टेट बैंक चौराहा, हाथी दरवाजा, पुराना बस स्टेंड, पांच पुलिया, सांई तिराहा व डाक बंगला तिराहे से होते हुएं राजमार्ग स्थित त्रिमूर्ति मंदिर पहुंची। जहां पर श्रीजी का अभिषेक करके उनको आयोजन के लिए बनाई गई वेदी में विराजमान किया गया। इस अवसर पर बडी संख्या मे समाजजन मौजूद थे। इस पूरे आयोजन के दौरान जिन वैदीयों पर प्राण प्रतिष्ठा के बाद भगवान की प्रतिमाएं विराजमान किया जाना है उनका शुद्धीकरण भी किया गया।इंद्रो और विधानाचार्यो ने आचार्य श्री को किया आमंत्रित इस आयोजन में शामिल होने के लिए सौ धर्म इंद्र, इंद्राणीयां और इंदौर के विधानाचार्य नितीन झांझरी और आगर के पंडित शांतिलाल जैन और संगीतकार पंकज जैन ने त्रिमूर्ति मंदिर परिसर में विराजमान आचार्य  दर्शन सागरजी महाराज को अर्ध्य चढाकर विधिविधान पूर्वक उनको इस आयोजन में शामिल हाेने के लिए आमंत्रित किया। इस अवसर पर आचार्य  दर्शन सागरजी ने उपस्थित श्रद्धालुओं को राग द्वेश की भावना को भुलकर एक जूटता के साथ कार्य करने की बात कहते हुएं सभी के सहयोग से इस आयोजन को सफल बनाने की अपील समाजजनो से की।


Popular posts
लाख तरक्की के बावजूद हम बुजुर्गों का ख्याल रखने में पीछे हैं- अतुल मलिकराम
Image
कोरोना से कब मिलेगी पृथ्वी को निजात.... 👏👏👏 ब्यावर के एस्ट्रोलॉजर दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी .... गुरु हस्ती कृपा से ग्रहों के अनुसार पृथ्वी पर आने वाले अगले लगभग 175 दिनों तक यानी 23 सितंबर 2020 तक विश्व के कई देशों में कोरोना जैसे वायरस या अन्य तरह के कई वायरसों से या प्राकृतिक आपदाओं से या युद्ध से तबाही होने के संकेत परंतु भारत को आने वाले लगभग 90 दिनों तक बेहद संभलकर चलने की जरूरत यानी लगभग 06 जुलाई 2020 तक भारत इस वायरस पर पूरी तरह से अंकुश लगाने में हो जाएगा कामयाब , इसके अलावा 29 अप्रैल 2020 को पृथ्वी के पास से गुजरने वाले एस्टरॉयड से नहीं होगा दुनिया का अंत , कहते हैं ब्रह्मांड में कोई ईश्वरीय शक्ति मौजूद है , यदि नाहटा के बताए गए मंत्रों को पूरे भारतवासी कर गए तो नाहटा का मानना है कि जल्दी ही आज से 40 दिनों के भीतर यानी 14 मई 2020 तक भारत इस वायरस पर काबू पाने में सफल हो जाएगा और इन मंत्रों को करने वालों को यह वायरस छू भी नहीं सकेगा , इसके अलावा देश सेवा हेतु लोक कल्याण की भावना के उद्देश्य से नाहटा पूरे देशभर की जनता को हिम्मत देने हेतु यानी देशभर की जनता का मनोबल बढ़ाने के उद्देश्य से 06 अप्रैल 2020 से ज्योतिष के माध्यम से नाहटा बिल्कुल निशुल्क रूप से प्रतिदिन लोक डाउन तक देशभर की जनता के द्वारा पूछे गए दो सवालों का जवाब देंगे एवं नाहटा ने भारत सरकार को दिए सात नए सुझाव , इस एप्स में जानिए पूरी डिटेल्स .....
Image
ऑरा ने इंदौर में नए स्टोर के साथ अपनी खुदरा उपस्थिति का विस्ताकर किया भारत की प्रमुख डायमंड ज्वैलरी रिटेल चेन ने इंदौर में अपना नया स्टोर लॉन्च किया
Koo (कू) बना सार्वजनिक क्षेत्र में एमिनेंस मानदंड शेयर करने वाला पहला भारतीय सोशल नेटवर्क
Image
फीमेल एम्प्लॉयीज़ को मेंस्ट्रुअल लीव देने वाला मध्य भारत का पहला स्टार्टअप
Image