सभी जेलों और न्यायालयों में लगे वीडियो कान्फ्रेंसिंग उपकरण  


प्रदेश की सभी जेलों और न्यायालयों में वीडियो कान्फ्रेंसिंग उपकरण लगाये गये हैं। इससे परिरूद्ध बंदियों की पेशी वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से आसानी से कराई जा सकेगी। पिछले एक वर्ष में मध्यप्रदेश की 37 जेलों में ई-प्रिजन कार्यक्रम शुरू किया गया है। इसमें बंदियों का डाटाबेस तैयार किया जा रहा है।


सभी जेलों में सी.सी.टी.वी. कैमरे


जेलों की सुरक्षा के लिये अब तक सिर्फ 23 जेलों में ही सीसीटीव्ही कैमरे लगाये गये थे। नई सरकार ने सभी जेलों में सीसीटीवी कैमरे लगाने की कार्यवाही शुरू कर दी है। जेलों की सुरक्षा-व्यवस्था सुदृढ़ बनाने के लिये सभी केन्द्रीय जेल और 9 जिला जेलों पर इलेक्ट्रिक फेंसिंग की स्थापना प्रचलन में है। जेलों में 590 वॉकी-टॉकी सेट एवं 22 बेस-सेट उपलब्ध कराये गये हैं।


बनेंगी 10 नई जेल


प्रदेश के 10 जिलों में नई जेल बनाई जाएगी। इनमें केन्द्रीय जेल इंदौर, जिला जेल बैतूल, रतलाम, राजगढ़, मुरैना, मंदसौर तथा सब जेल गाडरवारा, सब जेल कुक्षी, सब जेल मैहर और खुली जेल रीवा शामिल हैं।


Popular posts
भाजपा नेताओं की आपसी फूट के चलते गरीबों की आवास योजना चढ़ी राजनीति की भेंट: मामला प्रधानमंत्री आवास योजना का: अपात्र हितग्राहियो द्वारा सौंपा गया ज्ञापन
Image
पेन स्टूडियोज़ की जया जानकी नायक/खूँखार यूट्यूब पर 500 मिलियन से अधिक व्यूज़ पार करने वाली पहली भारतीय फिल्म
Image
एसबीआई जनरल इंश्योरेंस:डिजिटल हेल्थ कैम्पेन के साथ 80 लाख लोगों तक पहुँचने और उनके शरीर और दिमाग में बदलाव लाने का लक्ष्य
Image
"मेरा पहला विश्व खिताब मेरे करियर में सबसे खास रहा है क्योंकि मैं वहां बिना कुछ बने गया था": पंकज आडवाणी
Image
विशेष संपादकीय- सामाजिक दायित्वों का सजग प्रहरी शब्द संचार
Image