विशेष है माघ माह में आने वाली मौनी अमावस्या

माघ मास की अमावस्या को मौनीअमावस्या भी कहते है। इस साल यह अमावस्या 24 जनवरी 2020 शुक्रवार को पड़ रही है।
यूं तो हर माह अमावस्या की तिथि आती है लेकिन सोमवती अमावस्या, शनैश्चरी अमावस्या और माघ माह में आने वाली मौनी अमावस्या का विशेष महत्व है।मौनी अमावस्या को सबसे बड़ी अमावस्या माना गया है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान और दान कर अक्षय पुण्यफल की प्राप्त की जा सकती है।जो मनुष्य इस दिन गंगा, यमुना आदि नदियों में स्नान करके सच्चे मन से दान करता है उस पर समस्त ग्रह-नक्षत्रों की कृपा बनी रहती है। इस दिन मौन रहने से इंसान को पुण्य लौक की प्राप्ति होती है। इस दिन भगवान शिव और भगवान विष्णु की विशेष रूप से पूजा की जाती है। पीपल वृक्ष को आर्घ्य देकर परिक्रमा करने और दीप दान करना शुभ माना गया है।जो भी व्यक्ति इस दिन अगर व्रत नहीं रख सकते वह मीठे भोजन का सेवन करें।मौनी अमावस्या जैसे की नाम से ही स्पष्ट होता है, इस दिन मौन रहकर स्नान,दान, व्रत रखना चाहिए। केवल इतना ही नहीं, मौनी अमावस्या पर पितरों का तर्पण करने से पितरों की आत्मा की शांति और उनसे आशीर्वाद भी मिलता है।


Popular posts from this blog

आगर से भाजपा प्रत्याशी मधु गेहलोत 13002 मतों से व सुसनेर से कांग्रेस प्रत्याशी भैरूसिंह बापू 12645 मतों से जीते

ग्राम झालरा में गिरी आकाशीय बिजली:एक की मौत:एक घायल:नाना बाजार में मंदिर के शिखर का कलश गिरा

तवा भी बिगाड़ सकता है घर का वास्तु, जानिए रसोई में तवे का महत्व