अभियान की आड में परिवहन विभाग के अधिकारी वाहन चालको से कर रहे है वसूली

सुसनेर। प्रदेश की सरकार ने परिवहन माफिया के खिलाफ अभियान चलाकर कारवाई करने के आदेश परिवहन विभाग के जिम्मैदारों को क्या दिये इस आदेश का फायदा उठाकर विभाग के जिम्मैदार अधिकारी अपना उल्लू सीधा करने में लगे हुए है। 


इंदोर-कोटा राजमार्ग पर कंठाल पुल क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण वाहन चालको को सोयत से गोगटपुर-जीरापुर होते हुए सुसनेर आना पड रहा है।इस 30 किलोमीटर के फेर में आगर और राजगढ जिलें के परिवहन विभाग के जिम्मैदारों पर वाहन चालको से अवैध वसूली के आरोप लग रहे है। सोमवार को सुसनेर जीरापुर मार्ग व आगर-सुसनेर मार्ग पर आगर जिलें के परिवहन विभाग के जिम्मैदारों द्वारा वाहन चालको से कागजातो की जांच की आड में अपना उल्लू सीधा करने की जानकारी लगने के बाद मौके पर पहुंची मीडिया टीम के सामने कुछ ट्रक ड्रायवरो ने केमरे पर अवैध वूसली करने के आरोप लगाए है। किसी से 500 तो किसी से 2 हजार रूपये लिये जाने की बात भी सामने आई है। टीम के पहुंचने से पहले तो जिन वाहन चालको से वसुली की जा रही थी उन्हें रसीद भी नहीं दी जा रही थी। जब टीम के पहुंचने की जानकारी परिवहन विभाग के अधिकारीयों को लगी तो उन्होने रसीद देना  शुरू कि, लेकिन रसीद पर सील लगाकर के हस्ताक्षर किये हुएं थे जिससे उस रसीद के फर्जी होने की आशंका प्रतित होती है। क्योंकि शासन के नाम पर अगर कोई वसूली हो रही है तो वसूली की रसीद पर विभागीय नाम पते अंकित क्यों नहीं है।


चार घंटे तक रूके रहे वाहन चालक, लेकिन फिर भी राशि देना पडी
आगर-सुसनेर मार्ग पर माधव विलास के समीप परिवहन विभाग के जिम्मैदारों के द्वारा जांच के नाम पर वाहन चालको की लाइन लगी हुई थी तो कुछ वाहन चालको ने पैसे देने के डर से अपने वाहनो को जांच वाले स्थल से 100 मीटर दूरी पर खडा कर रखा था। जब चार घंटे बीत जाने के बाद दोपहर 3 बजे तो वाहन चालको ने अपना भोजन भी सड़क के किनारे पकाकर के खाया। इस दोरान वाहन चालकाे ने बताया कि हमसे जीरापुर-सुसनेर मार्ग पर जगह-जगह परिवहन विभाग के द्वारा अवेध वसूली की जा रही है। जिससे वाहन चालक परेशान है। और इंदौर-कोटा राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहनो की आवाजाही में भी कमी आ रही है। 


दिन में परिवहन विभाग तो रात को लूटेरे करते है परेशान


"दिल्ली से विजयवाडा आंध्रप्रदेश की और जा रहा हूं, इंदौर-कोटा राजमार्ग पर दिन में परिवहन विभाग के अधिकारी तो रात के समय लूटेरे परेशान करते है। परिवहन विभाग के लोग अवैध वसूली करते है। ये तो आप थे इस वजह से मुझे 500 रूपये की रसीद बनाकर दी गई, अन्यथा रसीद भी नहीं दी जाती और पेसे भी ज्यादा ले लेते"
                                         हरिमोहन
                     ट्रक चालक, विजयवाडा आंध्रपेदश


दोनो जगहो पर की जा रही वसूली


"जीरापुर सुसनेर मार्ग पर आगर-सुसनेर मार्ग पर दो जगहों पर आरटीओं ने मुझसे अवैध वसूली की। कूल मिलाकर के इस सड़क से वाहन गुजारने के 6 हजार रूपये मुझसे वसूले गए है। और रसीद भी नहीं दी गई है। आगर और राजगढ दोनो जिलें के परिवहन विभाग के अधिकारी वसूली में जूटे है। प्रशासन कंठाल पुल की मरम्मत कराकर उस पर भारी वाहनो को गुजारे तो वाहन चालको को इसी लूट खसोट से राहत मिले"
                                          दिलप्रीत सिंह
                                        ट्रक चालक, पंजाब


लक्ष्य पूरा करना है इसलिए कि जा रही है जांच


"विभाग को वित्तीय वर्ष का लक्ष्य पूर्ण करना है। इसलिए जांच की जा रही है। जिन वाहन चालको के कागजात पूरे नहीं होते या वे नियमों की अवहेलना करते है। उनका ही चालान काटा जाकर वसूली की जा रही है। जिस रसीद की आप बात कर रहे है वह सही है, सोयत आरटीओं बेरीयर के अधिकारीयों ने उक्त कारवाई की है"
                       अम्बिका प्रसाद श्रीवास्तव
                     जिला परिवहन अधिकारी, आगर