अस्पताल के भर्ती वार्ड में अटाला सामग्री भर कर लगा दिया ताला, बरामदे में मरीजाे को चढ रही बांटल


सुसनेर। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में महिला भर्ती वार्ड में अटाला भरकर उस पर ताला लगा दिए जाने से अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की फजीहत हो रही है। स्थिति यह बन रही है की पुरुष वार्ड में सारे पलंग फूल हो जाने से मरीजों की बरामदें में बांटले चढाई जा रही है।


उधर मौसमी बीमारीयों के मरीजों संख्या बढ़ने के कारण अस्पताल में उपचार करवाने के लिए परेशान होना पड रहा है। जब हमनें जानकारी हासिल की तो पता चला कि अस्पताल प्रबंधन ने अस्पताल की पूरी अटाला व क्षतिग्रस्त पड़ी सामग्री को महिला भर्ती वार्ड में एकत्रित कर उस पर ताला लगा दिया है। जिसको नीलामी करने की प्रक्रिया चल रही है। लेकिन उसको भर्ती वार्ड में जमा किए जाने से मरीजों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में मरीजो की यह समस्या अस्पताल प्रबंधन पर भारी भी पड सकती है। 



अस्पताल की सुविधा के लिए मरीजों को परेशानी क्यों?
अस्पताल में वेस्टेज सामग्री को महिला भर्ती वार्ड में जमा करके उस पर ताला लगाना गलत है। दो वार्डो में से एक बंद हो जाने के कारण पुरूष वार्ड के सारे पलंग फूल हो गए। ऐसे में मरीजों को भर्ती वार्ड के बाहर बरामदें में बांटल चढाना पड रही है। मरीजो ने इस सामग्री को जल्द हटाकर के उसमें पुन: मरीजो को भर्ती किये जाने की मांग की है।


"अस्पताल में सालो से वेस्ट सामग्री पडी हुई थी जिसको नीलाम करने के लिए 12 फरवरी को रोगी कल्याण समिति की बैठक आयोजित कर उक्त सामग्री को सीएमएचओं के आदेश से महिला भर्ती वार्ड में जमा किया गया है। अस्पताल  से यह सामग्री चोरी न हो इसके लिए वार्ड के दरवाजे पर ताला लगाया गया है। सामग्री के नीलामी की प्रक्रिया चल रही है, जल्द ही नीलाम कर दिया जाएगा। उसके बाद पुन: इस वार्ड में मरीजों को भर्ती किया जाएगा"
                                                                       


                            गिरीश पाण्डें 
                 रोगी कल्याण समिति प्रभारी, सुसनेर।