महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस पहुचे माँ पीताम्बरा के द्वार

नलखेडा। भाजपा के कद्दावर नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस मंगलवार को नलखेड़ा स्थित विश्वप्रसिद्ध पीतांबरा सिद्धपीठ मां बगलामुखी मंदिर पहुंचे।श्री फडनिस द्वारा मंदिर में विधि-विधान व मंत्रोच्चार के साथ मातरानी की पूजा कर आशीर्वाद लिया।


पहली बार माता मंदिर पर आए महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री के महाराष्ट्र स्थित उनके निवास पर पूर्व में भी माता मंदिर के पंडितों द्वारा जाकर विशेष हवन-अनुष्ठान करवाया गया था। तभी से उनका माता मंदिर पर आकर माता के दर्शन करने की जो मनोकामना थी, वह पूरी हुई। इस दौरान उन्होने राजनीति को लेकर कोई भी प्रतिक्रिया देने से इंकार कर दिया। श्री फडनवीस ने कहा कि मां बगलामुखी माता की महिमा हम सभी लोग जानते हैं। यह शक्तिपीठ है और हम शक्ति उपासना करने के लिए आते हैं। हमारी संस्कृति में शक्ति को बहुत महत्व दिया गया है और हमारी माताओं को शक्ति स्वरूपा माना गया है। इसी शक्ति स्वरूपा माता के दशर्न एवं आराधना करने केे लिए मै यहां आया हूं। मां के दर्शन करन के बाद मुझे बडी खुशी मिल रही है। हमारी सभी मनोकामनाएं माता जानती है, हमारे मन में क्या है माता सब जानती है।
 श्री फडनवीस ने महाराष्ट्र की राजनीति को लेकर किये गए सवालों को नकारते हुए कहा कि मैं यहां पर मातारानी के दर्शन के लिए आया हूं। इसलिए राजनीति से संबंधित किसी प्रकार के सवाल मुझसे न पूछे जावें।मंदिर दर्शन उपरांत पूर्व मुख्यमंत्री फडनवीन का उनके समर्थकों द्वारा स्वागत किया गया। इसके बाद वे समीप स्थित स्वामी सांदीपेन्द्र आश्रम पर पहुुंचे, जहां उन्होने 1008 स्वामी सांदीपेन्द्र महाराज से विशेष चर्चा कर उनका आशीर्वाद प्राप्त किया।


Popular posts
भाजपा नेताओं की आपसी फूट के चलते गरीबों की आवास योजना चढ़ी राजनीति की भेंट: मामला प्रधानमंत्री आवास योजना का: अपात्र हितग्राहियो द्वारा सौंपा गया ज्ञापन
Image
पेन स्टूडियोज़ की जया जानकी नायक/खूँखार यूट्यूब पर 500 मिलियन से अधिक व्यूज़ पार करने वाली पहली भारतीय फिल्म
Image
एसबीआई जनरल इंश्योरेंस:डिजिटल हेल्थ कैम्पेन के साथ 80 लाख लोगों तक पहुँचने और उनके शरीर और दिमाग में बदलाव लाने का लक्ष्य
Image
"मेरा पहला विश्व खिताब मेरे करियर में सबसे खास रहा है क्योंकि मैं वहां बिना कुछ बने गया था": पंकज आडवाणी
Image
विशेष संपादकीय- सामाजिक दायित्वों का सजग प्रहरी शब्द संचार
Image