चैत्र नवरात्री2020: अत्यंत चमत्कारिक है नलखेड़ा का द्वापरयुगीन बगलामुखी मंदिर:पांडवो ने की थी माँ की आराधना


नलखेड़ा-आगर जिले की नलखेेड़ा तहसील का मां बगलामुखी मंदिर विश्वभर में प्रख्यात है। प्राचीन तंत्र ग्रंथों में 10 महाविद्याओं का उल्लेख मिलता है। उनमें से बगलामुखी एक है। मां भगवती बगलामुखी का महत्व समस्त देवियों में सबसे विशिष्ट है। विश्व में इनके 3 ही महत्वपूर्ण प्राचीन मंदिर है, जिनमें से एक नलखेड़ा में स्थित है।


जहां मां बगलामुखी विराजित होती है, वह नगर प्राकृतिक आपदाओं से मुक्त होता है। यहां के बारे में मान्यता है कि मंदिर में स्थित प्रतिमा महाभारत कालीन है और राजा युधिष्ठिर द्वारा भगवान श्रीकृष्ण के कहने पर कौरवों पर विजय पाने के लिए मां की आराधना की थी। बगलामुखी मंदिर में वैसे तो नित्य ही श्रद्धालुओं की आवाजाही बनी रहती है, लेकिन चैत्रीय और शारदीय नवरात्र के दौरान यहां दूरदराज से श्रद्धालु पहुंचते हैं। प्राचीन सिद्ध शक्तिपीठ मां बगलामुखी मंदिर को पाण्डवों की साधना स्थली के रूप में जाना जाता है। पूरी दुनिया में मां बगलामुखी के द्वापरयुगीन तीन सिद्धपीठ है, जिसमें नलखेड़ा सिद्धपीठ, उपपीठ नेपाल तथा तीसरा बिहार में है। मध्यप्रदेश के ही दतिया में भी मां बगलामुखी का मंदिर है। कौरवों पर विजय पाने के लिए पाण्डवों ने भगवान कृष्ण के कहने पर यहां बगलामुखी की आराधना की थी और युद्ध में कौरवों पर विजय पाई थी। काली पुराण के अनुसार मां बगलामुखी की स्थापना भीम के पुत्र बर्बरिक ने की थी। बर्बरिक स्वयं ही महातांत्रिक एवं सिद्ध थे। द्वापरयुगीन यह मंदिर अत्यंत चमत्कारिक है। मंदिर में माता बगलामुखी के अतिरिक्त मां लक्ष्मी, कृष्ण, हनुमान, भैरव तथा सरस्वती भी विराजित है। मान्यता है कि प्रतिमा स्वयंभू है। इस मंदिर में बगलामुखी मनोकामना पूरी करने व किसी भी क्षेत्र में विजय प्राप्त करने के लिए यज्ञ, हवन व पूजा पाठ कराते हैं। बगलामुखी माता मूलत: तंत्र की देवी है। इसलिए यहां तांत्रिक अनुष्ठानों का महत्व अधिक है। नवरात्रि में यहां भक्तों का हुजूम लगा रहता है। बगलामुखी का मंत्र 36 अक्षर का होता है। शत्रु विनाश, मोहन उच्चाटन और वशीकरण के लिए बगलामुखी देवी की आराधना की जाती है। भगवती को पीला रंग विशेष प्रिय है। इसी कारण मां बगलामुखी पीताम्बर धारण करती है।


Popular posts
कोरोना से कब मिलेगी पृथ्वी को निजात.... 👏👏👏 ब्यावर के एस्ट्रोलॉजर दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी .... गुरु हस्ती कृपा से ग्रहों के अनुसार पृथ्वी पर आने वाले अगले लगभग 175 दिनों तक यानी 23 सितंबर 2020 तक विश्व के कई देशों में कोरोना जैसे वायरस या अन्य तरह के कई वायरसों से या प्राकृतिक आपदाओं से या युद्ध से तबाही होने के संकेत परंतु भारत को आने वाले लगभग 90 दिनों तक बेहद संभलकर चलने की जरूरत यानी लगभग 06 जुलाई 2020 तक भारत इस वायरस पर पूरी तरह से अंकुश लगाने में हो जाएगा कामयाब , इसके अलावा 29 अप्रैल 2020 को पृथ्वी के पास से गुजरने वाले एस्टरॉयड से नहीं होगा दुनिया का अंत , कहते हैं ब्रह्मांड में कोई ईश्वरीय शक्ति मौजूद है , यदि नाहटा के बताए गए मंत्रों को पूरे भारतवासी कर गए तो नाहटा का मानना है कि जल्दी ही आज से 40 दिनों के भीतर यानी 14 मई 2020 तक भारत इस वायरस पर काबू पाने में सफल हो जाएगा और इन मंत्रों को करने वालों को यह वायरस छू भी नहीं सकेगा , इसके अलावा देश सेवा हेतु लोक कल्याण की भावना के उद्देश्य से नाहटा पूरे देशभर की जनता को हिम्मत देने हेतु यानी देशभर की जनता का मनोबल बढ़ाने के उद्देश्य से 06 अप्रैल 2020 से ज्योतिष के माध्यम से नाहटा बिल्कुल निशुल्क रूप से प्रतिदिन लोक डाउन तक देशभर की जनता के द्वारा पूछे गए दो सवालों का जवाब देंगे एवं नाहटा ने भारत सरकार को दिए सात नए सुझाव , इस एप्स में जानिए पूरी डिटेल्स .....
Image
ऑरा ने इंदौर में नए स्टोर के साथ अपनी खुदरा उपस्थिति का विस्ताकर किया भारत की प्रमुख डायमंड ज्वैलरी रिटेल चेन ने इंदौर में अपना नया स्टोर लॉन्च किया
फीमेल एम्प्लॉयीज़ को मेंस्ट्रुअल लीव देने वाला मध्य भारत का पहला स्टार्टअप
Image
लाख तरक्की के बावजूद हम बुजुर्गों का ख्याल रखने में पीछे हैं- अतुल मलिकराम
Image
बाबा बैजनाथ महादेव का आज का संध्या श्रृंगार दर्शन
Image