मामा को फिर मिल सकती है प्रदेश की कमान,हिन्दू नववर्ष पर हो सकती है ताजपोशी


भोपाल- सब कुछ सही रहा  तो मध्य प्रदेश में 25 मार्च हिन्दू नववर्ष के दिन तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके शिवराज सिंह चौहान पुनः मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं।
 ऐसे संकेत मिले हैं जिससे यह तय माना जा रहा है कि शिवराज सिंह चौहान ही वर्तमान परिदृश्य में उपयुक्त नेता माने जा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी यही इच्छा है कि वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए तथा प्रदेश में होने वाले उपचुनाव के मद्देनजर शिवराज सिंह चौहान के हाथों में ही पुनः बागडोर सोपी जाए।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को दो बार शिवराज सिंह चौहान से कोरोना के मुद्दे पर बातचीत की थी। उन्होंने चौहान को प्रशासन से संपर्क बनाए रखने के लिए भी कहा है। दूसरी वजह सिंधिया के समर्थन के कारण बन रही सरकार को चलाने में समन्वय का मुद्दा महत्वपूर्ण रहेगा, इसलिए चौहान के अनुभव का पार्टी को लाभ मिलेगा। पार्टी सूत्रों ने बताया कि 25 मार्च को होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में भी किसी तरह के ताम-झाम नहीं करने का फैसला पार्टी ने लिया है। चुनिंदा लोगों की मौजूदगी में सादगी से शपथ दिलाई जाएगी। सनद रहे कि सरकार के अल्पमत में आने के बाद 18 मार्च को कमलनाथ ने इस्तीफा दे दिया था।तब से ही भाजपा में विधायक दल का नेता चुने जाने को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है।