राजस्थान और मध्यप्रदेश सीमा सील:चवली बार्डर पर प्रवासी लोगो के रहने के लगाया कैंप

आगर-मालवा-कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर जिला प्रशासन द्वारा ऐतिहातिक कदम उठाए जा रहे है। प्रशासन पूरी मुस्तैदी के साथ संपूर्ण जिले में कार्य कर रहा है। कलेक्टर संजय कुमार द्वारा जिले को लॉक डाउन किया गया है इस अवधि में किसी भी व्यक्ति को बाहर निकलने की अनुमति नहीं है। जिले में किसी भी नागरिकों को कोई परेशानी ना हो इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा जिले में लगातार भ्रमण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया जा रहा है। कलेक्टर श्री कुमार एवं पुलिस अधीक्षक  मनोज कुमार सिंह ने  सोमवार को जिले में राजस्थान कि सीमा से लगी चवली बॉर्डर, सल्याखेडी सोयत सुसनेर की व्यवस्थाओ का जायजा लिया। वर्तमान में राजस्थान और मध्यप्रदेश सीमा सील कर दी गई है। ऐसे में प्रवासी लोगो को जिला प्रशासन द्वारा सुविधा मुहैया करवाई गई है।
    कलेक्टर श्री कुमार ने चवली बार्डर पर प्रवासी लोगो के रहने के लिए केंप लगाए गए है।  इनमें लगभग 300 मजदूरों के खाने पीने रहने की सारी व्यवस्था प्रशासन द्वारा की गई है। कलेक्टर श्री कुमार ने सल्याखेडी में आइसोलेशन वार्ड का निरीक्षण किया तथा आवश्यक सुविधाओं पर संतोष जाहिर किया गया। उन्होंने सुसनेर में सीनियर बालिका छात्रावास का चयन कोरेन्टन भवन के रूप में किया गया, जो सर्व सुविधायुक्त है। जिसमे 40 बेड, गद्दे, टॉयलेट, पंखे इत्यादि से युक्त नवीन बिल्डिंग है। कलेक्टर ने एसडीएम  मनीष जैन से तहसील एवं ग्रामीण क्षेत्रों में प्रभावित गरीबों एवं निराश्रित लोगो को दी जाने वाली  सुविधाओं भोजन, राशन सामग्री आदि की जानकारी ली गई। चिकित्सको से नागरिकों को मिलने वाली स्वास्थ्य संबंधी जानकारी ली गई। साथ ही उन्होंने अधिकारी-कर्मचारियों से लगातार मॉनिटरिंग कर लॉक डाउन को सफल बनाने हेतु आम नागरिकों को समझाइश देने के निर्देश दिए हैं।
 


Popular posts
भाजपा नेताओं की आपसी फूट के चलते गरीबों की आवास योजना चढ़ी राजनीति की भेंट: मामला प्रधानमंत्री आवास योजना का: अपात्र हितग्राहियो द्वारा सौंपा गया ज्ञापन
Image
पेन स्टूडियोज़ की जया जानकी नायक/खूँखार यूट्यूब पर 500 मिलियन से अधिक व्यूज़ पार करने वाली पहली भारतीय फिल्म
Image
एसबीआई जनरल इंश्योरेंस:डिजिटल हेल्थ कैम्पेन के साथ 80 लाख लोगों तक पहुँचने और उनके शरीर और दिमाग में बदलाव लाने का लक्ष्य
Image
"मेरा पहला विश्व खिताब मेरे करियर में सबसे खास रहा है क्योंकि मैं वहां बिना कुछ बने गया था": पंकज आडवाणी
Image
विशेष संपादकीय- सामाजिक दायित्वों का सजग प्रहरी शब्द संचार
Image