मंदिर, मस्जिद आदि स्थानों पर न आकर घर में ही पूजा अर्चना एवं नमाज पड़ने की सलाह

आगर-मालवा-कोरोना वायरस वैश्विक महामारी है और बड़ी तेजी से फैल रही है। देश में इसके फैलाव की रोकथाम के लिए 14 अप्रैल तक 21 दिनों का टोटल लाॅकडाउन किया गया है। इसमें सफलता तब ही मिलेगी, जब सभी लोग इसका शत्-प्रतिशत पालन करें। लोग गैर जिम्मेदारना होकर अपने घर से बाहर निकलकर सड़कों पर घूमेंगे तो वायरस का फैलाव होगा। यह बीमारी किसी व्यक्ति विशेष या समुदाय के लिए नहीं अपितु पूरे देश के लिए संकट घड़ी है


इसमें सभी के सहयोग की आवश्यकता है।इसकों रोकने के लिए सभी को एहतियाति बरतना होगी। सभी धर्माें के धर्मगुरू अपने-अपने क्षैत्रों में लोगों को लाॅकडाउन का पालन करने की समझाईश देकर उन्हें घरो पर रहकर एक-दूसरे से दूरी बनाएं रखने हेतु प्रेरित करें। उक्त अपील कलेक्टर संजय कुमार ने शुक्रवार को जिले के धर्मगुरूओं  कलेक्टर सभा कक्ष में बैठक आहूत कर की गई है। कलेक्टर ने धर्मगुरूओं से कहा कि यह वायरस संक्रमित व्यक्ति के खासने या छींकने से हवा द्वारा, संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क से जैसे छूने या हाथ मिलाने से, संक्रमित सामग्रियों के संपर्क में आने के बाद आंख या नाक छूने से यह रोग फैलता है। अतः धर्मगुरु पूजा अर्चना के लिए आने वाले लोगों को कोरोना वायरस के संबंध में जागरूक करें और उन्हें मंदिर, मस्जिद आदि स्थानों पर न आकर घर में ही पूजा अर्चना करने एवं नमाज पड़ने की सलाह दें। मंदिरों, मस्जिदों में किसी भी स्थिति में व्यक्ति इकट्ठे न हो। जिले में लागू प्रतिबंधात्मक आदेशो का पालन किया जाए। बैठक में सभी धर्मगुरूओं ने जिला प्रशासन का सहयोग करने का आश्वासन दिया।
    कलेक्टर कहा कि जिले के सभी नागरिकों का कर्तव्य है कि वे  इस संकट के दौर में जिला प्रशासन का सहयोग करें। अनावश्यक घरों से बाहर न निकलें। पूरी ईमानदारी के साथ प्रतिबंधात्मक आदेशो का पालन करें। उन्होंने हिदायत दी है कि जो लोग गैर जिम्मेदार होकर घरों से बाहर घूमेंगे उनके विरूद्ध जिला प्रशासन द्वारा सख्त रवैया अपनाया जाएगा। 
बैठक में एसडीएम महेन्द्र सिंह कवचे, बगलामुखी माता मंदिर के मुख्य पुजारी गोपालदास, बैजनाथ मंदिर पूजारी मुकेश पूरी, शहरकाजी वसीमउद्दीन सहित विभिन्न धर्माें के धर्मगुरू उपस्थित थे।