जो व्यक्ति पात्र होने के बावजूद मुआवजा से वंचित है, उसे मुआवजा प्रदान करने की कार्यवाही करें

आगर-मालवा,शब्द संचार न्यूज-कलेक्टर अवधेश शर्मा की अध्यक्षता में कुण्डालिया वृहद् सिंचाई परियोजना की समीक्षा बैठक शनिवार को कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में सम्पन्न हुई। कलेक्टर ने बांध अन्तर्गत डूब प्रभावित गांवों के पुनर्वास एवं मुआवजा वितरण पर विस्तार पूर्वक चर्चा की। कलेक्टर ने संबंधित अधिकारियों को डूब प्रभावितों ग्रामीणों की लम्बित शिकायते एवं उनकी समस्याओं का सर्वोच्च प्राथमिकता के साथ निराकरण करने के निर्देश दिए। उन्होंनें कहा कि जो व्यक्ति पात्र होने के बावजूद मुआवजा से वंचित है, उसे मुआवजा प्रदान करने की कार्यवाही करें। भू-अर्जन संबंधी कार्यां में शासन के दिशा-निर्देशों का भलीभांति निर्वहन करें। उन्होंने निर्देश दिए जिन लोगों को मकान अर्जित किए है, यदि उन्हें एकमुश्त पुनर्वास भत्ता चाहिए, तो देने की कार्यवाही करें तथा जिनकी आवास निर्माण हेतु प्लाट की मांग है, उन्हें प्लाट उपलब्ध कराया जाए। इसके अन्तर्गत कौन व्यक्ति पात्र एवं अपात्र होगा इसकी जानकारी तैयार करें तथा प्रभावितों को भी इस जानकारी से अवगत कराएं। उन्होंने पुनर्वास अनुदान हेतु एक अलग से समिति गठित करते हुए समिति की जांच उपरांत संबंधित को भुगतान करने के निर्देश दिए। 


  कलेक्टर ने निर्देश दिए कि डूब प्रभावित सिंचित एवं असिंचित भूमि का डेटाबेस संबंधित के पास उपलब्ध रहे। जिन डूब प्रभावितों ने अभी तक भूमि की रजिस्ट्री नहीं कराई है, उनके लिए धारा 11 को का प्रकाशन करवाकर अवार्ड पारित करवाए। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि डूब क्षेत्र के गांवों का सर्वे कर और सीमांकन हुआ या नहीं देखें। जिन व्यक्तियों की रजिस्ट्री हो चुकी है, इसके बाद भी दावा-आपत्ति की गई है, उनकी सूची तैयार करें।  


  बैठक में अपर कलेक्टर एनएस राजावत,एसडीएम महेन्द्र सिंह कवचे, संयुक्त कलेक्टर अशफाक अली, डिप्टी कलेक्टर श्रीमती कल्याणी पांडे, कुंडलिया परियोजना प्रबंधक अजय गुप्ता एवं शुभंकर विश्वास, दिनेश चन्द्र वैश्य एवं संबंधित तहसीलदार, पटवारी तथा भू-अर्जन शाखा प्रभारी नितिन जादमे उपस्थित रहे।