हनुमान अष्टमी पर दिनभर गूंजता रहा जय हनुमान ज्ञान गुण सागर...!
आगर-मालवा, निप्र। पौष कृष्ण अष्टमी कल हनुमान अष्टमी के रूप में धूमधाम के साथ मनाई गई। लंबे अरसे के बाद नगर में धार्मिक आयोजन पूरे उत्साह के साथ आयोजित हुआ। हनुमान मंदिरों में अल सुबह से ही सुंदरकांड, हनुमान चालीसा एवं रामायण की चौपाईयां गूंजने लगी थी। वीर हनुमान मंदिर से विशाल नगर भ्रमण यात्रा शुरू हुई जो प्रमुख मार्गो से होते हुए पुन: हनुमान मंदिर पहुंची। तहसील कार्यालय के सामने स्थित वीर हनुमान मंदिर में बाबा का आकर्षक श्रृंगार किया गया। हनुमान अष्टमी के पावन पर्व पर नगर भ्रमण यात्रा का यह २५वां वर्ष था। शाम को महाआरती के बाद प्रसाद वितरित की गई। रात को संगीतमय सुंदरकांड का आयोजन किया गया। प्राचीन हनुमानगढी मंदिर में भी बाबा का गर्भगृह फूलों से सजाकर श्रृंगार किया गया। पं. जगदीश शर्मा ने बताया कि इस अवसर पर विभिन्न आयोजन किये गये। भाटपुरा स्थित बाल वीर हनुमान मंदिर में महाआरती के पश्चात सुंदरकांड का आयोजन किया गया। श्री बजरंग मित्र मंडल द्वारा भोजन प्रसादी का आयोजन भी किया गया। रणछोड मंदिर स्थित पंचमुखी हनुमानजी महाराज का आकर्षक श्रृंगार कर भक्त मंडल द्वारा प्रसादी वितरित की गई। गोपाल मंदिर स्थित बालाजी महाराज का आकर्षक श्रृंगार कर सुंदरकांड, हनुमान चालीसा, महाआरती एवं भंडारे का आयोजन हनुमान भक्त सेवा समिति एवं श्रीराम सेना गोपाल मंदिर द्वारा किया गया। यहां आयोजन का २०वां वर्ष था। विवेकानंद नगर स्थित संकटमोचन वीर हनुमान मंदिर विश्वेश्वर महादेव एवं संकटमोचन हनुमान सोमेश्वर महादेव पर भी बाबा का आकर्षक श्रृंगार किया गया। केवडा स्वामी, अचलेश्वर महादेव, बावडी वाले बाबा, तालाब किनारे स्थित चमत्कारिक हनुमान, अस्तल के मंदिर में भी हनुमान जी महाराज का आकर्षक श्रृंगार किया गया। जनपद पंचायत स्थित पंचमुखी हनुमानजी महाराज का आकर्षक श्रृंगार किया गया व अनुष्ठान भी संपन्न हुए। शंकरकुईया स्थित प्राचीन बालाजी महाराज का आकर्षक श्रृंगार कर रामायण पाठ, सुंदरकांड, हनुमान चालीसा सहित यज्ञ-हवन का आयोजन संपन्न हुआ।जनपद पंचायत स्थित पंचमुखी हनुमानजी का प.गोपाल शर्मा बापचा द्वारा श्रंगार किया गया।
Popular posts
कोरोना से कब मिलेगी पृथ्वी को निजात.... 👏👏👏 ब्यावर के एस्ट्रोलॉजर दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी .... गुरु हस्ती कृपा से ग्रहों के अनुसार पृथ्वी पर आने वाले अगले लगभग 175 दिनों तक यानी 23 सितंबर 2020 तक विश्व के कई देशों में कोरोना जैसे वायरस या अन्य तरह के कई वायरसों से या प्राकृतिक आपदाओं से या युद्ध से तबाही होने के संकेत परंतु भारत को आने वाले लगभग 90 दिनों तक बेहद संभलकर चलने की जरूरत यानी लगभग 06 जुलाई 2020 तक भारत इस वायरस पर पूरी तरह से अंकुश लगाने में हो जाएगा कामयाब , इसके अलावा 29 अप्रैल 2020 को पृथ्वी के पास से गुजरने वाले एस्टरॉयड से नहीं होगा दुनिया का अंत , कहते हैं ब्रह्मांड में कोई ईश्वरीय शक्ति मौजूद है , यदि नाहटा के बताए गए मंत्रों को पूरे भारतवासी कर गए तो नाहटा का मानना है कि जल्दी ही आज से 40 दिनों के भीतर यानी 14 मई 2020 तक भारत इस वायरस पर काबू पाने में सफल हो जाएगा और इन मंत्रों को करने वालों को यह वायरस छू भी नहीं सकेगा , इसके अलावा देश सेवा हेतु लोक कल्याण की भावना के उद्देश्य से नाहटा पूरे देशभर की जनता को हिम्मत देने हेतु यानी देशभर की जनता का मनोबल बढ़ाने के उद्देश्य से 06 अप्रैल 2020 से ज्योतिष के माध्यम से नाहटा बिल्कुल निशुल्क रूप से प्रतिदिन लोक डाउन तक देशभर की जनता के द्वारा पूछे गए दो सवालों का जवाब देंगे एवं नाहटा ने भारत सरकार को दिए सात नए सुझाव , इस एप्स में जानिए पूरी डिटेल्स .....
Image
ऑरा ने इंदौर में नए स्टोर के साथ अपनी खुदरा उपस्थिति का विस्ताकर किया भारत की प्रमुख डायमंड ज्वैलरी रिटेल चेन ने इंदौर में अपना नया स्टोर लॉन्च किया
फीमेल एम्प्लॉयीज़ को मेंस्ट्रुअल लीव देने वाला मध्य भारत का पहला स्टार्टअप
Image
लाख तरक्की के बावजूद हम बुजुर्गों का ख्याल रखने में पीछे हैं- अतुल मलिकराम
Image
बाबा बैजनाथ महादेव का आज का संध्या श्रृंगार दर्शन
Image