इंटरनेशनल डे ऑफ हैप्पीनेस’ के मौके पर क्या कहा सोनी सब के कलाकारों ने
मेघा चक्रवर्ती उर्फ ‘काटेलाल एंड सन्स् ‘ की गरिमा: “खुशियां हमारे चारों तरफ ही हैं तो ‘इंटरनेशनल डे ऑफ हैप्पीनेस’ (अंतरराष्ट्री य खुशी दिवस) के मौके पर मैं अपने फैंस से गुजारिश करना चाहूंगी कि हर तरफ खुशियां और मुस्कु राहट बांटे। मैंने कामयाबी हासिल की और मैंने अपने सपनों को पूरा कर दिखाया, यही मेरे लिये सबसे बड़ी खुशी की बात है। मुझे डॉगीज बहुत पसंद हैं, इसलिए उनके साथ वक्तप बिताना अच्छान लगता है, इससे मुझे बहुत खुशी मिलती है। जब अपनी पहली कमाई से मां को वैकेशन पर ले गयी थी, वो मेरी जिंदगी का सबसे खुशनुमा पल था। जिंदगी बहुत छोटी होती है, उसे जितना हो सके सरल बनाकर रखना चाहिये और परिवार के साथ बिताये पलों का आनंद लेना चाहिये। हर अच्छे-बुरे समय में परिवार ने मेरा साथ दिया। उन्हों ने जो सपोर्ट और खुशियों के इतने सारे पल दिये हैं, उन सबके लिये उनका शुक्रिया।”
अभिषेक निगम उर्फ ‘हीरो-गायब मोड ऑन’ के वीर नंदा: “मैं मानता हूं कि दिल से खुश होना चाहिये और हर तरफ हंसी व मुस्कुयराहट बांटनी चाहिये। मेरे लिए खुशी का मतलब मेरा परिवार है, उनकी मुस्कुफराहट मुझे अदंर से खुशी देती है। ड्राइविंग के दौरान जब शहर में हर तरफ अपने शो की होर्डिंग्सस देखता हूं तो दिल खुश हो जाता है। जब लोग मुझे मेरे काम की वजह से इतना प्यार देते हैं बहुत अच्छाु लगता है। इसे शब्दों में बयां कर पाना मुश्किल है। अपने दोस्तों और परिवार के साथ वक्तत बिताना मुझे बहुत पसंद है, इससे मेरे चेहरे पर पूरी मुस्का न खिल जाती है।‘’
सुमित राघवन उर्फ ‘वागले की दुनिया’ के राजेश वागले : “अपनी फैमिली के साथ रहना, उन्हेंक अच्छा वक्तर बिताते हुए देखना ही मेरे चेहरे पर मुस्कुाराहट ले आता है। मेरा मानना है सबकी खुशियों में खुश होना और सबके लिये अच्छा सोचना ही खुशियां बांटना है। मैं चाहता हूं कि हर दिन अपने घर में अपनों के साथ किताबें पढ़कर, गाकर, कुछ इंस्ट्रू मेंट बजाकर खुशियों के पल पा सकूं। मुझे ऐसा लगता है कि हमें थोड़ा रुककर अपने आस-पास भी देखना चाहिये और उन छोटी-छोटे लम्होंप का आनंद लेना चाहिये, क्योंथकि इसे ही सच्चीन खुशी कहते हैं।‘’
गुल्कीद जोशी उर्फ ‘मैडम सर’ की हसीना मालिक : “अपने दिन की शुरुआत एक प्यारी सी मुस्कराहट से करें और दिल में खुशियों के फूल खिलने दें। मेरे लिए पेड़ के नीचे झूले पर लेटे हुए चिड़ियों को सुनना और हल्की -सी झपकी लेना भी खुशी दे जाता है। मुझे ऐसा लगता है कि किसी की भी जिंदगी में परिवार ही खुशी के लिये सबसे जरूरी चीज होती है। हम अपने काम और करियर की वजह से तनाव में रहते हैं, ऐसे में परिवार के सपोर्ट और आपसी समझ से एक संतुलित और ख़ुशहाल जिंदगी जी सकते हैं। शहर में हर तरफ अपने शो की होर्डिंग्सर देखकर मुझे भरपूर आनंद मिलता है। अजनबियों को देखकर मुस्कुराना, लोगों को अपनी प्यारी बातों से हंसाना, ये छोटी- छोटी बातें भी मुझे खुशियां देती हैं।‘’