होली के अवसर पर एण्डटीवी पर ड्रामा और काॅमेडी के रंग
होली का त्यौहार बस आने ही वाला है और ऐसे में एण्डटीवी अपने साथ रंगों की सौगात लेकर आया है। चैनल के सारे शोज़ के आगे आने वाले एपिसोड्स में खुशियों के ये रंग बिखरने वाले हैं। ‘भाबीजी घर पर हैं’ के आगामी एपिसोड में विभूति नारायण मिश्रा (आसिफ शेख) और मनमोहन तिवारी (रोहिताश्व गौड़) अपनी भाबियों के साथ होली खेलने का सपना देखते हैं। इतना ही नहीं सपने में एक-दूसरे के प्रसाद में भांग भी मिलाते हैं। वहीं, अनिता भाबी (नेहा पेंडसे) और अंगूरी भाबी (शुभांगी अत्रे) अपने पतियों का इम्तिहान लेती हैं। वे जानना चाहती हैं कि यदि उन पर कोई मुसीबत आयी तो वे उन्हें बचा पायेंगे या नहीं। इतने सारे हंगामे के बीच क्या विभूति जी और तिवारी जी अपनी भाबियों के साथ होली खेल पायेंगे और अपनी पत्नियों का इम्तिहान पास कर पायेंगे?
भांग का यह शरारती रंग ‘हप्पू की उलटन पलटन’ में भी चढ़ता नज़र आ रहा है। पूरा परिवार होली खेलने के बाद,फिल्म जाने की प्लानिंग करता है। साथ ही दरोगा हप्पू सिंह (योगेश त्रिपाठी) से भांग ना पीने का वादा भी करवा लेता है। लेकिन हप्पू तो ठहरे हप्पू भांग का नशा उन्हें अपना वादा तोड़ने पर मजबूर कर देता है। वह भांग तो पी लेता है लेकिन राजेश (कामना पाठक) और अपने बच्चों के गुस्से से बच नहीं पाता। वे सारे मिलकर इसका बदला लेने का प्लान बनाते हैं। जहां छेदी, हप्पू पर इल्जाम लगाता है कि उसने उसकी साली को छेड़ा है। क्या हप्पू अपनी बेगुनाही साबित कर पायेगा? और अपनी पत्नी, बच्चों का दिल जीत पायेगा? वहीं ‘संतोषी मां सुनाएं व्रत कथाएं‘ में सिंह परिवार जश्न में डूबा हुआ है। ऐसे माहौल में स्वाति (तन्वी डोगरा) और इंद्रेश (आशीष कादियान) के बीच भी प्यार का गुलाबी रंग चढ़ रहा है। जबकि देवेश (धीरज राज) रंग में भंग डालने की कोशिश कर रहा है।
Popular posts
भाजपा नेताओं की आपसी फूट के चलते गरीबों की आवास योजना चढ़ी राजनीति की भेंट: मामला प्रधानमंत्री आवास योजना का: अपात्र हितग्राहियो द्वारा सौंपा गया ज्ञापन
Image
पेन स्टूडियोज़ की जया जानकी नायक/खूँखार यूट्यूब पर 500 मिलियन से अधिक व्यूज़ पार करने वाली पहली भारतीय फिल्म
Image
एसबीआई जनरल इंश्योरेंस:डिजिटल हेल्थ कैम्पेन के साथ 80 लाख लोगों तक पहुँचने और उनके शरीर और दिमाग में बदलाव लाने का लक्ष्य
Image
"मेरा पहला विश्व खिताब मेरे करियर में सबसे खास रहा है क्योंकि मैं वहां बिना कुछ बने गया था": पंकज आडवाणी
Image
विशेष संपादकीय- सामाजिक दायित्वों का सजग प्रहरी शब्द संचार
Image