मिलिए गुरुग्राम के लॉजिस्टिक्स एंट्रेप्रेन्योर नरेश पाल शर्मा से, जो आत्मनिर्भर भारत का एक चमकता उदाहरण हैं
इनोवेशन करने के लिए तैयार लॉजिस्टिक्स इंडस्ट्री में विकास के नये अवसरों की उपलब्धता ने भारतीय ग्राहकों की सेवा करने के लिए माइक्रो साइज बिजनेस की भूमिका को प्रमुख बना दिया है। लोगों में तेजी से डिलिवरी प्राप्त करने की अपेक्षा होने के कारण, अमेज़ॅन जैसी कंपनियां अपने नेटवर्क के सभी हिस्सों को मजबूती प्रदान कर रही हैं, जिसमें उनके मिडिल-माइल ऑपरेशंस भी शामिल हैं, जो फुलफिलमेंट नेटवर्क को डिलिवरी नेटवर्क से जोड़ते हैं। इसने छोटे व्यवसायों के लिए अपनी जमीनी जानकारी का लाभ उठाने, और भारत को जोड़ने के लिए एक मध्यस्थ के रूप में सेवा प्रदान करते हुए, दो मील के बीच परिवहन की गति बढ़ाने के लिए कंपनी की क्षमता बढ़ाने के नये तरीके अपनाये हैं। इस अवसर से लाभ उठाते हुए, कई एंट्रेप्रेन्योर्स अमेज़ॅन इंडिया के साथ अपना काम शुरू किया है और उसे बढ़ाया है; गुरुग्राम के नरेश पाल शर्माउनमें से एक हैं। एनआरएस ट्रांसपोर्ट सर्विसेज के मालिक नरेश ने 1993 में एक ट्रक चालक के रूप में अपनी पेशेवर यात्रा शुरू की थी। 1999 में लगभग जानलेवा दुर्घटना के बावजूद, उन्होंने अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए कड़ी मेहनत की और ट्रकिंग व्यवसाय चलाने की अपनी महत्वाकांक्षा पर ध्यान केंद्रित किया। इसने उन्हें एक पार्टनर के रूप में अमेज़ॅन के साथ नामांकन करने मौका दिया और विश्वसनीय डिलिवरी के लिए उन्होंने स्वयं को अमेज़ॅन के परिचालन दिशानिर्देशों के अनुरूप तैयार कर लिया। उनकी प्रतिबद्धता के कारण उन्हें सफलता मिली, जिससे उन्होंने अपने बेड़े का विस्तार किया और करीब 40 ट्रक ड्राइवरों को रोजगार दिया। वे कहते हैंकि ''मुझे पता है कि हम कस्टमर पैकेज की समय पर और सुरक्षित डिलीवरी करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसे बनाये रखने की मेरी जिम्मेदारी है और इससे मुझे प्रेरणा मिलती है। मैंने वास्तव में अपनी उद्यमशीलता की पहचान की है और इस प्रक्रिया में लोगों की मदद करने में सक्षम होना, मैं जितना सोच सकता था, उससे अधिक संतोषजनक रहा।" नरेशऔर उनके एसोसिएट्स के प्रयासों से न केवल बाधारहित डिलिवरी सुनिश्चित हुई है, बल्कि इसके आधार को भी मजबूती मिली है,जिसने उन्हें आगे बढ़ने और आत्मनिर्भर बनने में सक्षम बनाया है। अमेज़ॅन ट्रांसपोर्टेशन सर्विसेज के डायरेक्टर, अभिनव सिंहने बताया कि “ट्रकिंग पार्टनर्स हमारे ऑपरेशंस के आधार हैं, जो फुलफिलमेंट सेंटर्स और लास्ट माइल के बीच ट्रांसपोर्टेशन की गति बढ़ाने के लिए हमारी क्षमता में वृद्धि करते हैं। समय पर डिलिवरी सुनिश्चित करने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका है और हम वर्तमान अत्याधुनिक तकनीक के साथ उन्हें सक्षम करने के लिए तैयार हैं। देश भर के छोटे व्यवसायों को सहयोग प्रदान करने की हमारी प्रतिबद्धता के अनुरूप, हमने वित्तीय लचीलापन, सुरक्षित ड्राइविंग तकनीक, रूट की जानकारी, मेंटेनेंस और बड़े ओईएम से खरीद कार्यक्रमों को हासिल करने के लिए अपने पार्टनर्स और उनके लिए तैयार किये गये कस्टम बिल्ट प्रोग्राम के माध्यम से काम किया है। ड्राइवर सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है, हमने इस साल हजारों ड्राइवरों को रक्षात्मक ड्राइविंग, कोविउ सुरक्षा और कार्यस्थल सुरक्षा प्रोटोकॉल के बारे में प्रशिक्षित किया है। हमने ड्राइवरों के लिए स्वास्थ्य और आकस्मिक बीमा कवरेज प्रदान करने के लिए तीसरे पक्ष की कंपनियों के साथ भागीदारी की है, जिसकी प्रतिपूर्ति अमेज़न द्वारा की जाती है। हम मानते हैं कि आत्मनिर्भर भारत का विचार इन उद्यमशीलता वाले व्यवसायों द्वारा मजबूती हासिल करता है और इन व्यवसायों को सशक्त बनाने पर हमें गर्व है।” ये पार्टनर पूरे भारत में यात्रा करते हैं, इसलिए स्वास्थ्य और सुरक्षा को हमेशा ही एक प्राथमिकता के तौर पर लिया जाता है। पार्टनर्स और एसोसिएट्स सभी निवारक स्वास्थ्य उपायों का पालन कर रहे हैं जिनमें सोशल डिस्टैंसिंग मानदंड का पालन और फेस कवरिंग जैसे अन्य 100 उपाय शामिल हैं। पिछले साल इन ट्रकिंग पार्टनर्स के लिए आपरेशंस में आने वाली रुकावटों के दौरान, कंपनी ने पार्टनर सपोर्ट फंड की शुरुआत की, जो मिडिल-माइल के बीच मौजूद पार्टनर्स को आर्थिक कठिनाइयों के दौरान अपने 40,000 से अधिक एसोसिएट्स की मदद करने तथा महत्वपूर्ण फिक्स्ड लागत और नकदी की दिक्कतों को दूर करने में सहायता प्रदान करता है। अमेज़न इंडिया ने वित्तीय संकट की स्थिति में परिवहन सहायता प्रदान करते हुए, सभी पात्र ट्रकिंग पार्टनर्स को 'अमेज़ॅन रिलीफ फंड' से भी सहायता प्रदान की।
Popular posts
अजय झंजी जिला प्रेस क्लब के निर्विरोध अध्यक्ष बने
Image
👹 *तिरिभिन्नाट एक्सप्रेस* 👹 *जानू मेरी जानेमन,दिल तुझे दिया है..बचपन का प्यार मेरा भूल नही जाना रे- आपका कोरोना*
Koo (कू) बना सार्वजनिक क्षेत्र में एमिनेंस मानदंड शेयर करने वाला पहला भारतीय सोशल नेटवर्क
Image
लाख तरक्की के बावजूद हम बुजुर्गों का ख्याल रखने में पीछे हैं- अतुल मलिकराम
Image
ऑरा ने इंदौर में नए स्टोर के साथ अपनी खुदरा उपस्थिति का विस्ताकर किया भारत की प्रमुख डायमंड ज्वैलरी रिटेल चेन ने इंदौर में अपना नया स्टोर लॉन्च किया