महाशिवरात्रि पर बैजनाथ धाम में लगा आस्थावानों का मेला लगी रही भक्तो की कतारें:मुख्य द्वार से मंदिर तक सिर्फ पैदल ही रहा आवागमन
आगर-मालवा:महाशिवरात्रि पर बैजनाथ धाम में हजारो श्रृद्धालुगणों ने पहुंचकर, बाबा बैजनाथ महादेव के दर्शन किए। सुबह से ही मंदिर में भीड़ जुटने लगी थी।सुबह 10 बजे से अत्यधिक भीड़ रही। दर्शनों का सिलसिला देर रात तक चलता रहा।सुबह 10 बजे से लेकर रात 10 बजे तक दर्शन के लिए कतारे लगी रही। बैजनाथ धाम में महाशिवरात्रि के अवसर पर भक्तों का आना सुबह से प्रारंभ हो गया था। जैसे-जैसे दिन चढ़ने लगा वैसे-वैसे जिले के ग्रामीण अंचलों एवं आसपास के जिलों से भक्तगण दर्शन के लिए पहुंचने लगे। महिला-पुरूष ने अलग-अलग कतार में खड़े होकर बाबा बैजनाथ के दर्शन किए। कोरोना की वजह इस वर्ष खिचड़ी वितरण नही हो सका।इंदौर कोटा मार्ग से मुख्य प्रवेश द्वार इस वर्ष भी सिर्फ पैदल यात्रियों के लिए उपयोग में लाया गया।जेल के पीछे वाले रास्ते से ही आवागमन सुचारू रहा। काफी दूरी पर वाहन पार्किग परेशानी का सबब कारण बनती रही।विशेष रूप से बुजुर्गों व विकलांगो को खासी असुविधा हुई।इसी तरह बस व अन्य वाहनों से मुख्य द्वार पहुचने वाले श्रद्धालुओं को भी लंबी दूरी तक पैदल चलना पड़ा।
दूल्हा बने भोलेनाथ शाम को बाबा बैजनाथ महादेव का आकर्षक सेहरा श्रंगार किया गया।दिन में ग्रामीण क्षेत्र से तो शाम को शहरी क्षेत्र के भक्तों की भीड़ रही। अचलेश्वर महादेव का भी शानदार सेहरा सजाया गया।यहाँ भी दिनभर भक्तो की आवाजाही बनी रही। विवेकानंद नगर स्थित विश्वेश्वर महादेव मंदिर में भी भोलेनाथ नाथ मनभावन श्रंगार किया गया। इसी तरह विवेकानंद नगर के सोमेश्वर महादेव,पशुपतिनाथ महादेव का भी विशेष श्रंगार किया गया।