शांति और सकीना के बीच कौन बनेगा बजरिया का मास्टर शेफ?

 



एण्डटीवी के शो और भई क्या चल रहा है? का आगामी एपिसोड आपकी भूख मिटाने और स्वादिष्ट खाने से आपका पेट भरने और आपको हर तरह से हंसाने का वादा करता है। खाना जीने के लिए बहुत जरूरी है और यह भरपूर एनर्जी भी देता है। लेकिन भोजन एक ऐसी चीज है जो हमारी कई करीबी भावनाओं से भी जुड़ा है, खुशी उन्ही भावनाओं में से एक है। इस हफ्ते का एपिसोड दर्शकों के लिए यही चीज लेकर आ रहा है- खाना, मस्ती और हंसी। इंसान के दिल का रास्ता उसके पेट से होकर जाता है ष्और इस बार और भई क्या चल रहा हैष् में नोकझोंक खाने पे है। पारो(सिमरन अवस्थी) गलती से मिश्रा (अंबरीश बॉबी)और मिर्जा(पवन सिंह)का टिफिन बदल देती है और वो दोनों एक-दूसरे का खाना खाकर खत्म कर देते हैं। शीर और खीर खा कर जैसे मिश्रा और मिर्जा के पेट को ही नहीं, आत्मा को भी शांति मिल गई हो। वो दोनों अपनी-अपनी पत्नियों के सामने खाने की तारीफ करते हैं। अब उन्हें ना ही भगवान और ना ही खुदा बचा सकता था। शांति (फरहाना फातिमा) और सकीना (अकांशा शर्मा) एक-दूसरे की तारीफ बिलकुल नहीं बर्दाश्त कर सकती और वो दोनों अपने-अपने आदरणीय पतियों की जिंदगी नरक बना देती हैं। वो रात को खाना नहीं बनाने का निर्णय लेती हैं और उन्हें बाहर खाना खाने के लिए सिर्फ 50 रुपए ही देती हैं। अब आजकल के जमाने में पचास रुपए में आखिर मिलता क्या है? इसलिए दोनों पुरूष ष्गुरबतकी रोटीष् नामक ढ़ाबे में सस्ते खाने का मजा लेने का फैसला करते हैं। आमतौर पर वहां ड्राइवर्स और रिक्शावाला की भीड़ होती है इसलिए मिश्रा और मिर्जा अपनी पहचान छुपाने के लिए मास्क पहनने का निर्णय लेते हैं। लेकिन जैसे ही वो निकलते हैं, पारो का पति बांके ढ़ाबे पर पहुंच जाता है और वहां से पारो को सेल्फी भेजता है, जिसमें मिश्रा और मिर्जा भी दिखाई दे जाते हैं। खुराफाती पारो बिना समय बर्बाद किए, वो तस्वीर व्हाट्सएप ग्रुप पर शेयर कर देती है और अब, पूरे मोहल्ले को ये पता चल गया है कि मिश्रा और मिर्जा कहां थे। कांटे को कांटे से निकालने के लिए, मिश्रा और मिर्जा कहानियां बनाना शुरू कर देते हैं कि कैसे पूरा मोहल्ला उन्हें जज कर रहा है और  कैसे उन्हें लगता है कि उनकी पत्नियां अच्छा खाना नहीं बनाती। यह सुनकर, शांति और सकीना दोनों भड़क जाती हैं और अपनी कुकिंग स्किल्स को साबित करने के लिए एक कुकिंग प्रतियोगिता करने का निर्णय लेती हैं। अब ये प्रतियोगिया कौन जीतेगा? क्या मिश्रा और मिर्जा इस काॅम्पीटिशन के बाद अपनी बीवियों के प्रकोप से बच पाएंगे?  पवन सिंह उर्फ जफर अली मिर्जा ने कहा, श्खाना प्यार है, और प्यार आपको अंधा बना देता है- ऐसा ही कुछ हुआ जब मिश्रा और मिर्जा दोनों ने अपनी बीवी के सामने एक-दूसरे की पत्नियों की तारीफ की, ये भूल गए कि कैसे एक चाल खतरनाक हो सकती है। अब बीवियों के हाथ का खाना नसीब नहीं हुआ तो दोनों जा पहुंचे ढ़ाबे, लेकिन उनकी परेशानी यहां खत्म नहीं होती बल्कि सिर्फ बढ़ती है। इस पूरी योजना और कहानी गढ़ने से बजरिया के अपने खुद के मास्टर शेफ काॅम्पीटिशन को बढ़ावा मिला ताकि यह फैसला किया जा सके कि बेहतर कुक कौन है। दर्शकों के लिए यह कुक ऑफ देखना बहुत ही मजेदार होगा और वो ये जानने के लिए भी उत्सुक होंगे कि आखिर जीतेगा कौन?श् फरहाना फातिमा उर्फ शांति मिश्रा ने कहा, श्अब शेर के मुंह में हाथ डालोगे तो यही होगा। ये जानने के बाद भी कि उनकी पत्नियां कितनी गुस्सा हैं, मिश्रा और मिर्जा दोनों कुछ ऐसा कर ही देते हैं  जिसकी वजह से उन दोनों को गुस्सा आ जाता है। मोहल्ले की गॉसिप से पूरी तरह झुंझलाई हुई, शांति और सकीना एक कुकिंग प्रतियोगिता करने का फैसला करती हैं। दोनों ही अपने पतियों का पसंदीदा व्यंजन बनाती हैं क्योंकि उन्हें इसमें अब महारथ हासिल हो चुकी है। लेकिन कहानी में हमेशा ट्विस्ट होता है और यही ट्विस्ट दर्शकों को रोमांचित करेगा, मैं इसकी गारंटी देती हूं।श्

 


‘और भई क्या चल रहा है?‘ से अपनी हंसी की रोज की खुराक पाएं, 

हर सोमवार से शुक्रवार रात 9.30 बजे सिर्फ एण्डटीवी पर!

Popular posts
मृत्यु भोज न करने की सूचना के बाद भी करवाया कार्यक्रम: उलंघन करने पर तहसीलदार द्वारा की गई कार्यवाही
Image
अंतिम गंतव्य तक वैक्सीन पहुँचाने की चुनौतियों के समाधान के लिए इंटेलीजेंट स्मार्ट ड्रोन से डिलीवरी
Image
बस भरकर पहुँचे बाराती:प्रशासन ने बारात की बस को वापस लौटाया
Image
कोरोना से कब मिलेगी पृथ्वी को निजात.... 👏👏👏 ब्यावर के एस्ट्रोलॉजर दिलीप नाहटा की भविष्यवाणी .... गुरु हस्ती कृपा से ग्रहों के अनुसार पृथ्वी पर आने वाले अगले लगभग 175 दिनों तक यानी 23 सितंबर 2020 तक विश्व के कई देशों में कोरोना जैसे वायरस या अन्य तरह के कई वायरसों से या प्राकृतिक आपदाओं से या युद्ध से तबाही होने के संकेत परंतु भारत को आने वाले लगभग 90 दिनों तक बेहद संभलकर चलने की जरूरत यानी लगभग 06 जुलाई 2020 तक भारत इस वायरस पर पूरी तरह से अंकुश लगाने में हो जाएगा कामयाब , इसके अलावा 29 अप्रैल 2020 को पृथ्वी के पास से गुजरने वाले एस्टरॉयड से नहीं होगा दुनिया का अंत , कहते हैं ब्रह्मांड में कोई ईश्वरीय शक्ति मौजूद है , यदि नाहटा के बताए गए मंत्रों को पूरे भारतवासी कर गए तो नाहटा का मानना है कि जल्दी ही आज से 40 दिनों के भीतर यानी 14 मई 2020 तक भारत इस वायरस पर काबू पाने में सफल हो जाएगा और इन मंत्रों को करने वालों को यह वायरस छू भी नहीं सकेगा , इसके अलावा देश सेवा हेतु लोक कल्याण की भावना के उद्देश्य से नाहटा पूरे देशभर की जनता को हिम्मत देने हेतु यानी देशभर की जनता का मनोबल बढ़ाने के उद्देश्य से 06 अप्रैल 2020 से ज्योतिष के माध्यम से नाहटा बिल्कुल निशुल्क रूप से प्रतिदिन लोक डाउन तक देशभर की जनता के द्वारा पूछे गए दो सवालों का जवाब देंगे एवं नाहटा ने भारत सरकार को दिए सात नए सुझाव , इस एप्स में जानिए पूरी डिटेल्स .....
Image
होली के अवसर पर एण्डटीवी पर ड्रामा और काॅमेडी के रंग
Image