एण्डटीवी के ‘और भई क्या चल रहा है’ में सकीना का किरदार मेरे लिये ही बना था‘‘, इस शो में सकीना की भूमिका निभा रहीं, आकांक्षा शर्मा ने कही यह बात

छोटी-मोटी बातचीत या बातचीत की शुरुआत, लोगों से जुड़ने का एक तरीका है। इससे हमें एक-दूसरे को जानने का मौका मिलता है या फिर हम यह जान पाते हैं कि सामने वाले की जिंदगी में क्या चल रहा है। हम भारतीय जब भी अपने दोस्तों, पड़ोसी, परिवार के किसी व्यक्ति से मिलते हैं, हर दिन इसी तरह बातचीत की शुरुआत करते हैं, जैसे ‘और भई क्या चल रहा है‘!  कुछ ऐसी ही परंपरा का निर्वाह जीवन के सार वाली इस कहानी ‘और भई क्या चल रहा है?‘ में किया गया है। एण्डटीवी के इस शो में मिश्रा और मिर्जा परिवार को दर्शाया गया है। शेड प्रोडक्शन के अमजद हुसैन शेख द्वारा प्रोड्यूस इस शो में लोकल टैलेंट को मुख्य भूमिकाएं निभाने का मौका दिया गया है। उन कलाकारों में सकीना मिर्जा के रूप में आकांक्षा शर्मा, शांति मिश्रा के रूप में फरहाना फातिमा, जफर अली मिर्जा के रूप में पवन सिंह और रमेश चंद्र मिश्रा के रूप में अंबरीश बाॅबी को शामिल किया गया है। मनोरंजन जगत का काफी अनुभव रखने वाली आकांक्षा शर्मा ने इस छोटी-सी बातचीत के दौरान शो में अपने डेब्यू रोल के साथ-साथ इससे जुड़े कई और मुद्दों पर बात कीः


1.इस शो में अपनी भूमिका के बारे में बतायें और यह आपको कैसे मिली?

मैं सकीना मिर्जा की भूमिका निभा रही हूं, जिसके काफी सारे शेड हैं। उसे अपनी खूबसूरती पर बड़ा नाज है। हर समय सज-धजकर तैयार रहना उसे पसंद है। उसकी सबसे बड़ी खासियत है कि वह अपना काम करवाना अच्छी तरह जानती है, खासकर अपने पति से। लेकिन वह प्यार से अपना काम निकलवाती है! वह मीठी छुरी की तरह है, जिसके झांसे में कोई भी आ सकता है। मुझे ऐसा लगता है कि यह किरदार मेरे लिये ही बना था। जब मुझे पता चला कि इस शो के मेकर्स को शो में दो लीड लेडीज सकीना और शांति की जरूरत है तो मैंने दोनों के लिये आॅडिशन दिया। हालांकि, मुझे सकीना का किरदार निभाने का मौका मिला। मुझे यह भूमिका सकीना से मिलते-जुलते तौर-तरीकों और पर्सनैलिटी की वजह से मिली। मैंने कभी नहीं सोचा था कि चीजें इतनी अच्छी तरह काम करेंगी। जब मुझे बताया गया मैं बहुत खुश थी और मैं उस दिन को कभी भुला नहीं सकती। मुझे वह किरदार पसंद आया और मुझे उसकी शूटिंग करने में काफी मजा आ रहा है। वैसे शेड्यूल थोड़ा थका देने वाला होता है लेकिन यह उतना ही संतोषजनक भी है। 


2. आप सकीना के किरदार से टीवी में डेब्यू कर रही हैं; कैसा महसूस हो रहा है?

बेशक, मैं सातवें आसमान पर हूं! जैसा कि मैंने पहले भी कहा कि मुझे ऐसा लगता है कि सकीना का किरदार मेरे लिये ही बना है। यह किरदार मेरे दिल के करीब है और मेरा पसंदीदा भी है। इस किरदार को निभाने के लिये मैं बहुत खुश हूं और उत्साहित भी। यह मजेदार और दिलचस्प किरदार है। सबसे जरूरी बात कि यह किरदार वैसा ही है जैसी मैं रियल लाइफ में हूं। इससे ज्यादा बेहतर और क्या हो सकता है! मुझे पूरा विश्वास है कि सकीना को लोग जरूर पसंद करेंगे और यह दर्शकों के दिलों तक पहुंचेगा। 


3.इस शो के बारे में बतायें। इसकी खास बात क्या है?

हमारे शो में लखनवी तहजीब के वास्तविक रंग-रूप, किरदार और खासियत को वास्तविक रूप में दर्शाया गया है। इसके साथ ही लखनऊ की वर्षों पुरानी गंगा-जमुनी तहजीब को मिश्रा और मिर्जा परिवार के माध्यम से दिखाया गया है। ये दोनों ही परिवार सांस्कृतिक रूप से एक-दूसरे से काफी अलग हंै, लेकिन दोनों ही एक नवाबी हवेली में साथ-साथ रहते हैं। इस शो में बड़े ही हल्के-फुलके तरीके से पड़ोसी दंपती के प्यार-नफरत वाले रिश्ते, जलन, झगड़े, भावनाएं और रोजमर्रा के किस्से दिखाये गये हैं। इन सबसे भी बढ़कर, उनके बीच होने वाली रोज-रोज की मजेदार नोंक-झोंक है! इस शो में काफी सारे जायके हैं, जो दर्शकों को जरूर पसंद आयेंगे। 


4.सकीना से आकांक्षा कितनी अलग है?

मुझे नहीं लगता कि आकांक्षा और सकीना में कोई फर्क है। मैं अपने रील किरदार से काफी मिलती-जुलती हूं। वैसे सकीना और आकांक्षा के बीच दो बातें बिलकुल एक जैसी हैं, दोनों ही खाना नहीं बना सकतीं और दोनों ही खुद से आसक्त हैं! बस एक फर्क है जो मैं यहां बताना चाहूंगी कि आकांक्षा को मेकअप करना पसंद नहीं, जबकि सकीना को खूब सारा मेकअप पसंद है। जहां तक रियल लाइफ की बात है मैं सकीना से ज्यादा बातूनी हूं। लेकिन जहां तक सकीना की स्मार्टनेस और नजाकत की बात है, दोनों में एक जैसी है। इससे मेरे लिये उस किरदार को निभाना ज्यादा आसान हो गया। मुझे इस किरदार को निभाने में काफी मजा आ रहा है और मुझे पूरा विश्वास है कि दर्शकों को सकीना का किरदार जरूर पसंद आयेगा। 


5.जैसा कि नाम से ही पता चलता है ‘और भई क्या चल रहा है’, दरअसल हर भारतीय इसे बातचीत शुरू करने के लिये इस्तेमाल करते हैं। तो आपको किस तरह बातचीत शुरू करना पसंद है और क्यों?


इस शो में आप हमेशा ही सकीना को लोगों को समझाते हुए देखेंगे और वह हर बार ही कहती है ‘मियां‘। वह हमेशा अपने परिवार के साथ व्यस्त रहती है और पति की लाडली है। इसलिये जब भी वह बातचीत शुरू करती है, वह हमेशा ही ‘मियां‘ के साथ शुरू होती है। लेकिन मैं जब भी बातचीत करती हूं तो वह होता है, ‘अरे सुनो!‘ 


6.आपके आस-पास क्या हो रहा है, उसे जानने का सबसे अच्छा तरीका होता है कि आप अपने पड़ोसी पर नज़र रखें या फिर उस व्यक्ति से संपर्क में रहें जिनके पास गाॅसिप की भरमार हो। तो इस शो में सकीना का और शो के बाहर एक्टर आकांक्षा का रियल लाइफ गाॅसिप स्रोत कौन है?

इस शो में सकीना के गाॅसिप का मुख्य स्रोत उसकी मेड (नौकरानी) पारो है। वह इस शो की बिलकुल अनूठी किरदार है। इस शो में वह अपने आंख-नाक हमेशा खुले रखती है और आस-पड़ोस की सारी खबरें उसके पास होती है। उस मोहल्ले की बातें और लोगों की खबरों से वह सकीना को अपडेट रखती है। लेकिन मैं गाॅसिप में नहीं उलझती और रियल लाइफ में मैं इससे जितना हो सके, दूर ही रहती हूं।