पत्रकारिता के कठिन डगर पर 'शब्द संचार'


 

उज्जैन के राजाधिराज महाकालेश्वर भगवान,आगर के अधिपति बाबा बैजनाथ महादेव, मां बगलामुखी नलखेड़ा एवं खाटू वाले श्याम बाबा के परम भक्त  सत्यनारायण  शर्मा मैं आपको और आपके परिवार को विगत कई दशकों से जानता हूं एवं अटूट पारिवारिक संबंध है। मैंने आपको हमेशा से संघर्ष करते हुए देखा है व पूरे परिवार की धार्मिक भावनाएं एवं आस्था है ।जिसकी नियत सरल सहज व सिर्फ एवं सिर्फ दूसरे की भलाई के लिए ही है वह परिवार भला कैसे किसी भी विपत्ति के सामने कैसे हार सकता है। आपने पत्रकारिता की शुरुआत ही बाबा बैजनाथ महादेव के प्रांगण से अक्टूबर 2011 में की थी। यह निश्चित ही है कि बाबा बैजनाथ महादेव का आशीर्वाद आप के ऊपर सतत बना हुआ है।पत्रकारिता एक ऐसी कठिन परीक्षा है कि जिसमें आपको समाज एवं समाज के बीच में जो सच्चाई एवं दृढ़ संकल्प है वही बताते हुवे उस पर चलना पड़ता है।उतार चढ़ाव तो कई आते हैं लेकिन आपने आपके शब्द संचार पत्रिका में जो स्लोगन दिया है निष्पक्ष एवं बुलंद आवाज उसी पर आप हमेशा खरे उतरे हो। अखबार का संचालन करना और उसकी गुणवत्ता को बनाए रखना बहुत ही दुष्कर कार्य है।ज्ञानवर्धक बातों को जन-जन तक पहुंचाना बहुत बड़ी कला है आपने हमेशा अपने अखबार में बहुत ही रोचक जानकारियां,कहानियां, घटनाएं एवं विविध प्रकार के धार्मिक आयोजनों को जिस बखूबी से निभाया है वह बहुत ही सराहनीय एवं योग्य कदम है। हम सभी बाबा बैजनाथ महादेव से यह प्रार्थना करते हैं कि आप हमेशा सही मार्ग पर प्रशस्त रहें एवं पत्रकारिता में बहुत आपका बड़ा नाम हो। भावसार समाज के अध्यक्ष होने के नाते मैं आपको  साधुवाद देते हुवे आपकी उन्नति हेतु ईश्वर से प्रार्थना करता हूं।एक बात जरुर कहना चाहूंगा आपके लिए कि( खुद ही को कर बुलंद इतना कि खुदा आकर खुद तुझसे पूछ ले कि बता बंदे तेरी रजा क्या है।)


 -डॉ रूपेश भावसार ,समाजसेवी आगर