यह दशक .. शतक से कम नहीं ...

 


विगत 10 वर्षों से अनवरत् साप्ताहिक अखबार का प्रकाशन और समस्त सुधी पाठकजनो के अंतर्मन को झंकृत करने वाले विचारो के कलेवर मे खबरों का प्रस्तुतिकरण  यह खूबी है शब्दसंचार की और इसका श्रेय मूर्धन्य क़लमकार, आगर अधिपति श्री बैजनाथ महादेव के विशेष कृपापात्र, युवातुर्क भाई सत्यनारायण शर्मा के कौशलपूर्ण संपादकत्व को।

प्रत्येक आगरवासी के सबसे उल्लासपूर्ण त्यौहार बाबा बैजनाथ की शाही सवारी का विशेषांक, उसके प्रकाशन की तैयारी मे व्यक्तिगत सबसे मिलकर विनम्र आग्रह और उसके बाद उसमे खबरों के प्रस्तुतीकरण का रोचक अंदाज शब्द संचार की लोकप्रियता को चरमोत्कर्ष पर लाने का सबसे बडा और सक्षम जरिया है और जिसके की संवाहक है मृदुभाषी श्याम प्रेमी भाई सत्यनारायण शर्मा ।

   बात चाहे राजनैतिक गलियारों की हो या प्रशासनिक महकमों के अंदरखाने की हर खबर की नब्ज पर पकड और उसको लच्छेदार भाषा मे प्रकाशन की खूबी अखबार की TRP को दिन दुनी और रात चौगुनी गती से बढा रहा है।

   संपादक जी ने अपने नाम के अनुरुप अफवाहो और गाॅसिप वाली सनसनी पैदा करने वाली खबरो के बजाय सत्यपरक और उद्देश्यपूर्ण खबरो के प्रकाशन को ही अपना ध्येय बनाकर नारद मुनि परंपरा को अपनाया इसके लिये आप साधुवाद के पात्र हैं ।

    परमपिता से प्रार्थना है कि आप यूँ ही इस कारवां को आगे बढ़ाते रहे और सफलता के नये आयाम गढते रहे और लालमाटी की महिमा को देश विदेश तक अपने प्रकाशन से फैलाते रहे; यहीं शुभकामनायें ...



विनय मालानी ,विचारक आगर