मध्यप्रदेश में देश का पहला बनेगा साइबर तहसील, घर बैठे चंद मिनटों में होंगे अब सरे काम कैबिनेट की बैठक में मिली है आज मंजूरी

 

साइबर तहसील बनने से नामांतरण के लिए आवेदन कहीं से भी हो सकेगा। अगर जमीन अविवादित है यानी उसे लेकर कोई विवाद नहीं है तो यह प्रक्रिया आप अपने घर बैठे भी कर सकेंगे। ऑनलाइन ही वह अपनी उपस्थिति भी दर्ज करा सकेगा। इससे नामांतरण की राह आसान होगी


मध्य प्रदेश कैबिनेट ने साइबर तहसील बनाने को मंजूरी दे दी है। इससे नामांतरण की राह आसान होगी


मध्य प्रदेश में अब नामांतरण के लिए आवेदन कहीं से भी हो सकेगा। अगर जमीन अविवादित है यानी उसे लेकर कोई विवाद नहीं है तो यह प्रक्रिया आप अपने घर बैठे भी कर सकेंगे। ऑनलाइन ही वह अपनी उपस्थिति भी दर्ज करा सकेगा। मध्य प्रदेश सरकार की कैबिनेट ने इस संबंध में साइबर तहसील बनाने को मंजूरी दे दी है। इससे नामांतरण की राह आसान होगी। 


मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्रालय में कैबिनेट की बैठक हुई। इसमें सरकार ने तय किया कि 25 नवंबर को आगर में 550 मेगावाट, शाजापुर में 450 मेगावाट, नीमच में 500 मेगावाट के सोलर प्लांट का शिलान्यास होगा। इसके साथ ही 25 नवंबर से राज्य में ऊर्जा साक्षरता अभियान चलाया जाएगा। इसमें स्कूली बच्चों और आम लोगों को जोड़कर बिजली बचाने से जुड़ी जानकारी के बारे में जागरुकता फैलाई जाएगी।